बेटी बचाओं-बेटी पढाओं एवं जैण्डर संवेदन शीलता विशय कार्यशाला आयोजित
जैसलमेर 
महिला अधिकारिता विभाग जैसलमेर द्वारा बेटी- बचाओं बेटी पढ़ाओं एवं जैण्डर संवेदना विशय पर एक दिवसीय जिला स्तरीय कार्यषाला का अटल सेवा केन्द्र, जिला परिशद जैसलमेर में माननीया जिला प्रमख अंजना मेघवाल की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। जिला प्रमुख महोदय ने अपने उद्बोधन में कहा कि जिले में बालिकाओं के प्रति सोच बदलने की आवष्यकता है। बालिकाओं वे समस्त अवसर देने चाहिये जो उसको आवष्यक है। यदि बालिकाओं को अवसर दिये जाये तो वे आगे बढेगी जैसे रियो ओलम्पिक इसका उदाहरण है।
कार्यषाला में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं योजना के बारे में कार्यक्रम अधिकारी महिला अधिकारिता विभाग, अषोक गोयल विस्तारपूर्वक बताया। इस योजना के लक्ष्य बालिका जन्म सुनिष्चित कर उत्सव के रूप में मनाने व उनकी षिक्षा को बढ़ावा देना। उदेष्य पक्षपाती लिंग जॉंच को रोकना, बालिकाओं के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिष्चित करना, बालिकाओं की षिक्षा सुनिष्चित करने बारे में चर्चा की एवं विभिन्न विभागों के दायित्वों एवंज न सहभागिता सुनिष्चित करने की बात कही।
कार्यषाला में च्ब्च्छक्ज् के बारे में जिला समन्वयक विक्रमसिंह चम्पावत ने इस कानून के बारे में विस्तारपूर्वक चर्चा की साथ ही किस प्रकार इस कानून का प्रभावी रूप से क्रियान्वयन हो इस बारे में चर्चा की। उन्होने व्यावहारिक जानकारी दी।
विकास अधिकारी सम सुखराम विष्नोई ने पंचायतीराज विभाग द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं योजना एवं राजश्री योजना का प्रभावी क्रियान्वयन की बात कही। मंजु चौधरी, लोक षक्ति संस्थान च्ब्च्छक्ज् में एन.जी.ओं के द्वारा किये गये प्रभावी कार्यो एवं व्यावहारिक पहलुओं के बारे में जानकारी दी। अषोक कुमार गोयल ने कार्यक्रम अध्किारी से जैण्डर संवेदना के बारे में विस्तार से चर्चा की। दीनदयाल ओज्ञा समाजसेवी ने अपने विचार व्यक्त किये।
कार्यषाला में बृजलाल मीणा जिला सांख्यिकी अधिकारी, स्नेहलता चाहान डी.डी. आईसीडीएस, लक्ष्मीदेवी जिला षिक्षा अधिकारी, कानसिंह एडीपीसी एसएसए, उम्मेद सिंह भाटी, सीडीपीओ, आर.पी. गर्ग, जे.आर.परमार सहित अधिकारियों, एनजीओं के सदस्य एवं समाजसेवियों ने भाग लिया। अषोक गोयल कार्यक्रम अधिकारी महिला अधिकारिता विभाग ने सभी को धन्यवाद दिया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top