पूर्णिमा की शाम 4.20 बजे बंद हो जाएंगे मंदिर पट 

जयपुर। पवनपुत्र हनुमान का प्राकट्य दिवस चैत्र शुक्ल पूर्णिमा गुरूवार 25 अप्रैल को मनाया जाएगा। इस दिन पूरे भारत के साथ यूरोप,पश्चिम एशिया के देशों में खंडग्रास चंद्रग्रहण दिखाई देगा।
जानकारी के मुताबिक,ग्रहण तो 25 अप्रैल को रात 1.20 मिनिट पर शुरू होगा पर ग्रहण का सूतक 4.20 से शुरू होने से श्रद्घालु घरों से बाहर नहीं निकल पाएंगे। ग्रहण का समय रात 1.21 से 1.54 तक रहेगा। 1.37 बजे ग्रहण का मध्यकाल होगा। 


कार्यक्रम होंगे प्रभावित 
चंद्रग्रहण का सूतक शुरू होने के कारण मंदिरों में शाम को हनुमान जयंती पर्व के उपलक्ष्य में आयोजित कार्यक्रमों में फेरबदल होगा। अंबाबाड़ी हनुमान मंदिर विकास समति के सुरेन्द्र गुप्ता के मुताबिक,हनुमान जयंती पर आयोजित कार्यक्रम प्रभावित होंगे। शाम सात बजे से ही हनुमान जयंती पर लोग मंदिरों में पहुंचते हैं,लेकिन इस बार इस दौरान मंदिरों के पट बंद रहेंगे। चंद्रग्रहण के कारण हनुमंत सेवा समिति की ओर से खोले के हनुमान जी जाने वाली पदयात्रा एक दिन पहले 24 अप्रैल को गोपालपुरा मोड़ से रवाना होगी। 
घाट के बालाजी के महंत सुदर्शनाचार्य जी के मुताबिक,चंद्रग्रहण के कारण हनुमान जयंती पर सुबह से लेकर शाम चार बजे तक ही सभी धार्मिक क्रियाएं मंदिरों में संपादित कर ली जाएगी,ताकि सूतक में कोई काम बाकी ना रहे। 

स्वाति नक्षत्र में जन्मे जातकों को कष्ट
ज्योतिषाचार्य पं राजकुमार चतुर्वेदी के मुताबिक,खंडग्रास चंद्रग्रहण स्वाति नक्षत्र औैर तुला राशि में होने के कारण इस चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभाव स्वाति नक्षत्र में जन्मे जातकों पर पड़ेंगे। सूतक काल से ही गर्भवती çस्त्रयां अपने पास कुछ रखे,ताकि गर्भपात का भय ना रहे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top