बीज मंत्र है राम नाम - मुरारी बापू
पूर्णता में अहंकार का धब्बा लग जाता है
रामदेवरा। जैसलमेर 
एक ओर बाबा रामदेव की मौजूदगी और दूसरी ओर नटराज हनुमान और परम गुरू से साक्षात्कार में धर्म चर्चा। रामदेवरा संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से आयोजित रामकथा कार्यक्रम की आनंद त्रिवेणी में दूर दूर से आये भक्तगण रामकथा के आनंद में सरोबार है। वे लौकिक जीवन के सूक्ष्म, चमत्कारी षब्द - भावों से रूबरू हो रहे है। वही व्यासपीठ की षरण में खुद को समर्पित कर आल्हादित है। बापू के प्रति अनंत श्रद्धा भाव, हजारों अनुयायियों की उपस्थिति महाकुम्भ सा नजारा साकार करती है। क्या अमीर..., क्या गरीब..., क्या संत..., क्या फकीर..., हरेक यहां षिश्य भाव से हरिकथा को सुनकर स्वयं को धन्य महसूस कर रहे है। कुछ ऐंसा ही नजारा बन रहा है रामदेवरा में।
कथा के दूसरे दिन रविवार को व्यासपीठ से हजारों जनमेदिनी को संबोधित करते हुए बापू ने कहा कि भगवान की कथा से कुछ ना कुछ अवष्य मिलता है। उन्हांेने कहा कि हमें हर हाल में अन्तःकरण से राजी होना चाहिए। यदि हम किसी की चर्चा या निन्दा नहीं करेंगे तो जगत में हमें किसी साधना को करने की जरूरत ही नही पडेगी। बापू ने कहा कि रामदेव पीर की परम्परा के बारें में मेरी जिम्मेदारी से कुछ कहने का मेरा वर्शो का मनोरथ था और आज वह मनोरथ पूरा हुआ। सनातन धर्म कृश्ण, राम या रामदेव पीर के बारें में यह नही कहता कि यह हमारें है बल्कि ये संपूर्ण विष्व के है। बाबा रामदेव जी की परम्परा में बीज पंथ या बीज मार्ग, महाधर्म, निजिया एवं निजार षब्द का उल्लेख मिलता है। 

वायु की तरह हनुमान सबके है

मुरारी बापू ने कहा कि हनुमानजी धीर, वीर और पीर भी है। सभी को अपने धर्म और ईश्ट देवों में श्रद्धा रखनी चाहिए लेकिन यदि हनुमानजी का आश्रय करोगे तो ईश्ट भक्ति को और बल मिलेगा। हनुमानजी चारों युग में विद्यमान है, सतयुग में षिव के रूप में, त्रेता युग में हनुमान, द्वापर में अर्जुन की ध्वजा में बैठकर और कलयुग में हनुमान जी रामकथा को श्रवण करने के लिए मौजूद है। हनुमानजी ने प्रभु राम को वचन दिया था कि जब तक रामकथा गाई जायेगी तब तक वे धरती पर रहेंगे और उनका केवल हरि नाम में ही विष्वास है। हनुमानजी वायु की ही तरह सबके है। वे पवन रूप में हमारें पीछे रहेंगे तो हमारें ईश्ट एवं भजन को बल मिलता है। बापू ने धर्मावलम्बियों से कहा कि सभी सांसारिक उत्तरदायित्व निभाओं लेकिन जब भी समय मिले हनुमानजी को राम नाम अवष्य सुनायें। हनुमानजी को धरती पर रोकने के लिए रामकथा का होना आवष्यक है। 

बीज मंत्र है राम नाम

साहित्यिक षब्दकोश में राम के कई अर्थ बतायें गये है। राम ने करूणा के कारण आखरी व्यक्ति को भी गले लगाया है। षब्दकोश में प्रेमी को, आत्मा को, जीव को, बल या ताकत, साहस, उमंग, घोडा, हिरण एवं अषोक वृक्ष को राम कहा गया है। तथाकथित लेवल के द्वारा किसी का षोशण ना हो यही महाधर्म है। रामदेव पीर ने भी यही किया इसलिए वे निश्कलंक कहलायें। उनको बीज का धणी भी मानते है। छोटे से छोटे आदमी ने भी रामदेव पीर की परम्परा को समझा है। 

बीज का अर्थ निरन्तर विकसित होना है। संसार में जितने धर्म, नियम व व्रत है उन सब का बीज रामचरित मानस है। बीज मंत्र को तुलसी महामंत्र भी कहा गया है। गोस्वामी तुलसीदासजी ने भी रामचरित मानस को बीज कहा है। जो रोज विकसित होती है उसी का नाम बीज है। खेत में बोया बीज भी रोज बढ़ता है और वह वट वृक्ष का रूप लेता है। मानस में षिव ने राम नाम को ही बीज मंत्र माना है। बीज तो 24 हुए है लेकिन निश्कलंक परंपरा ने प्रकाषवान एवं ज्योतिवान बीज को ही पूजा है। योग, युक्ति, मंत्र एवं साधना को जब छिपायें रखेंगे तभी वह पलित होगी। पूर्णिमा का चांद अच्छी बात है और इसकी बडी महिमा भी होती है। पूर्णता में अहंकार का काला धब्बा लग जाता है और पूर्णिमा के चांद में भी धब्बा नजर आता है लेकिन बीज का चांद निश्कलंक होता है और इसलिए इसका विषेश महत्व होता है।

राजस्थान से अभिभूत बापू बोले - धरती धोरा री

मुरारी बापू ने राजस्थानी कवि कन्हैयालाल सेठिया के गीत ‘‘धरती धोरां री’’ पंक्तियों को उद्धत करते हुए कहा है कि राजस्थान में महाराणा प्रताप का चेतक, रामदेव पीर का घोडा तथा मीरा का मनरूपी घोडा हुआ है। राजस्थान में जमीन का सूखा है लेकिन मन हरा भरा है और यह भूमि ताकत, उत्साह एवं उमंग की भूमि है। भाला महाराणा प्रताप के हाथ में भी है तो बाबा रामदेव के हाथों में भी है इसलिए यह धरती वीरों, पीरों एवं मीरा री है। मीरा का जहर पीने के लिए स्वयं कृश्ण इस धरती पर आयें है।

दुखः के आगे सुख है

मुरारी बापू ने प्रसिद्ध वैज्ञानिक आईन्सटीन के काल साक्षेप सिद्धांत के संदर्भ में कहा कि हम सिर्फ दुख को ही देखते है जबकि इसके पीछे खडे सुख को हम देख नही पाते है। सुख दुख, रात दिन, प्यास व तृप्ति, जन्म व मरण, अंधेरा व उजाला साक्षेप षब्द है। षालीन एवं विवेकी सुख हमारे अवकार की प्रतिक्षा में खडा है और हम उसका अवकार करेंगे तो ही वह आयेगा। कभी आगाज के डर से तो कभी अंजाम के डर से सुख तो दरवाजा अवष्य खटखटाता है। दुख जल्दी आ जाते है और उसी में हम डूब जाते है जबकि सुख भी दरवाजे पर खडा रहता है। राम रूप में सुख को अपनायेंगे तो दुख हमें सतायेगा ही नही। रामकथा ने हमेषा प्रेम का पाठ दिया है इसलिए कथा एक यज्ञ भी है।

नाम से बड़ा कोई भजन नही

मेरे पास राम नाम है जो बीज मंत्र ही है। राम के नाम से बडा कोई भजन नही है। आप जो कथा सुनते है वह जप, यज्ञ है और जप से बडा भजन कोई भी नही है। गोस्वामी तुलसीजी की पूरी साधना हरि नाम पर आधारित है। राम तो नाम का, रूप कृश्ण का, लीला बुद्ध पुरूश की और धाम कैलाष का श्रेश्ठ है। गणेष ने राम का आश्रय लिया तो वह प्रथम पूज्य बन गये। प्रभु का नाम जाप करने से ध्यान, यज्ञ, पूजा और अर्चना हो जाती है। 

विविध संस्कृतियों का संगम

मुरारी बापू की रामकथा में राजस्थान सहित गुजरात, महाराश्ट्र, मध्यप्रदेष सहित देष के अन्य षहरों, हिस्सों से आये श्रद्धालु यहां आनंद रस लूट रहे है। वही जिले के देहात से आता जन सैलाब भी कथा सागर में समाकर संस्कृतियों का मेल करा रहा है। कही ठेट देहात की बोली कानों मे गूंज रही है तो कही गुजराती, मराठी व मेवाती प्रभु प्रसंगों की चर्चा का जरिया बनी हुई है। 

संत कृपा सनातन संस्थान की ओर से आयोजित रामकथा के दूसरे दिन सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने व्यासपीठ की आरती उतारी। कथा में राजस्थान सरकार के मंत्री अर्जुन गर्ग, जोधपुर सांसद गजेन्द्रसिंह, कथा संयोजक मदन पालीवाल, प्रकाष पुरोहित, रविन्द्र जोषी, रूपेष व्यास, विकास पुरोहित सहित कई गणमान्य अतिथियों ने व्यासपीठ पर पुश्प अर्पित किये तथा कथा श्रवण का लाभ लिया। 

चारो ओर राम का रेला

मुरारी बापू की रामकथा के दूसरे दिन रविवार को श्रोताओं की आस्था में ओर प्रगाढता दिखी। पाण्डाल, भोजनषाला, सडके एवं चहुं ओर राम राम जपते श्रोताओं की टोलियां आ जा रही थी। कही विश्राम, कही भोजन तो कही कीर्तन में डूबे श्रोता आनंदोत्सव का आभास करा रहे हैे। आस पास के गांव में भी राम का रेला दिखाई देने लगा है। कथा से पूर्व गांव गांव से लोगों के पहुंचने को लेकर अच्छा खासा उत्साह देखा जा रहा है। दूर दराज से भी लोग हजारों की संख्या में कथा स्थल पहुंच रहे है।

कवि सम्मेलन आज

रामदेवरा में आयोजित मुरारी बापू की रामकथा के आयोजन की श्रृंखला में आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रमों के तहत सोमवार षाम को कवि सम्मेलन का आयोजन किया जायेगा। इसमें देष के सुप्रसिद्ध हास्य कवि डॉ. सुरेन्द्र षर्मा, प्रसिद्ध गीतकार दुर्गादानसिंह गौड, अरूण जैमिनी, भगवान मकरन्द, महेन्द्र अजनबी, बुद्धिप्रकाष दाधीच सहित कई कविगण हिस्सा लेंगे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top