युवा सांस्कृृतिक खोज महोत्सव 28 से
ब्लॉक स्तर पर होगा भव्य आयोजन, तैयारियाँ जोरों पर
बाड़मेर ।
राजस्थान युवा बोर्ड मामले एवं खेल विभाग राजस्थान सरकार द्वारा प्रत्येक ब्लॉक स्तर से जिला स्तर तक युवा सांस्कृृतिक प्रतिभा खोज महोत्सव-2016 का आयोजन किया जा रहा हैं। बाड़मेर आयोजन प्रभारी सी.ओ. स्काउट गाइड ज्योति रानी महात्मा ने बताया कि 28 से 30 नवम्बर तक बाड़मेर जिले के 8 ब्लॉक पूर्वानुसार में युवा सांस्कृतिक प्रतिभा खोज महोत्सव का आगाज होगा उसमें सराहनीय प्रस्तुती प्रस्तुत करने वाले प्रतिभागियों को 5 दिसम्बर को भगवान महावीर टाउन हॉल में आयोजित जिला स्तरीय समारोह में अतिथियों द्वारा प्रमाण-पत्र एवं ‘कला रत्न’ पुरस्कार से पुरस्कृत किया जाएगा।
ये होगी प्रतियोगिताएं 
महात्मा ने बताया कि ब्लॉक से जिला स्तर पर 16 प्रतियोगिता में प्रतिभागी भाग ले सकते हैं। जिसमें सामुहिक लोक नृत्य, सामुहिक लोक गायन, रम्मत, क्लासिकल, डान्स, कत्थक, भरतनाट्यम, ओडिसी, एकल गायन, चित्रकला, आशु भाषण, क्लासिकल इन्सटूमेन्टल सोलो-सितार, फलूट, तबला, मृदंगम, वीणा, हारमोनियम, गिटार आदि की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएगी।
आवेदन शुरू 
सी.ओ. गाइड ने बताया कि इस प्रतियोगिता में कोई भी व्यक्ति भाग ले सकता हैं जिसकी उम्र 15 वर्ष से 1 जनवरी 2017 तक 29 वर्ष हो। इन्हीं प्रतियोगिताओं में भाग लेने के लिए प्रतिभागी सम्बन्धित विकास अधिकारी कार्यालय में अपना नाम दर्ज करवाएं। ये प्रतियोगिताएं पूर्वानुसार ब्लॉक बाड़मेर, बायतु, बालोतरा, चौहटन, धोरीमन्ना, शिव, सिवाना, सिणधरी में आयोजित की जाएगी।
बीडीओ को सौंपी जिम्मेदारी 
कार्यक्रम प्रभारी महात्मा ने बताया कि ब्लॉक स्तर पर सफल आयोजन के लिए जिला कलक्टर द्वारा प्रत्येक विकास अधिकारी को ब्लॉक स्तर पर प्रभारी नियुक्त कर जिम्मेदारी सौंपी हैं।
संवर्द्धन करना 
सी.ओ. गाइड महात्मा ने बताया कि इस महोत्सव का आयोजन करने का मुख्य उद्देश्य राज्य के दुलर्भ एवं लुप्त कला को संवर्द्धन करना हैं, साथ ही राज्य के युवाओं को विभिन्न कलात्मक क्षेत्रों अपनी प्रतिभा को विकसित करने हेतु प्रतिभाओं की खोज करना, चयनित युवा प्रतिभाशाली कलाकारों को प्रोत्साहित करना एवं सबंधित कला में उनकी योग्यताओं में वृद्धि करने हेतु उत्कृष्ट सुविधा उपलब्ध कराना, युवाओं को नैतिक मूल्य के विकास के लिए विविधतापूर्ण समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को समझने पर बल देना, पारम्परिक एवं ग्रामीण कलाओं को प्रसारित करना।
होगी राज्य स्तरीय प्रतियोगिता 
राजस्थान की संस्कृति को राज्य स्तर पर सम्मानित करने एवं राज्य की सांस्कृतिक प्रतिभाओं को आगे लाने के लिए फड़, रम्मत, रावण हत्था, अलगोजा, खरताल एवं मोरचंग आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन भी इन्हीं के साथ ब्लॉक एवं जिला स्तर पर होगा। इसमें चयनित प्रतिभागी राज्य स्तर तक सहभागिता कर सकेगें।
नवाजा जाएगा ‘‘कला रत्न’’ से -महात्मा ने बताया कि ब्लॉक एवं जिला स्तर पर आयोजित इस प्रतियोगिता में विजेता प्रथम, द्वितीय, तृतीय को ‘कला रत्न’ पुरस्कार एवं प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top