प्रतियोगिताओ से निखरती है प्रतिभाएं: विश्नोई
बाड़मेर ।
‘प्रतियोगिताओं से प्रतिभाओं में निखार आता है। बच्चे तो कच्ची माटी की तरह होते है, उन्हें जो रूप देना हो दिया जा सकता है। भारत विकास परिषद विभिन्न तरह की प्रतियोगिताएं व कार्यक्रमों का आयोजन कर देश विकास में महत्वपूर्ण कार्य कर रही है।’
यह बात मुख्य अतिथि अतिरिक्त जिला कलेक्टर ओ.पी.विश्नोई ने रविवार को भारत विकास परिषद के राजस्थान पश्चिम प्रांत की विभिन्न शाखाओं का प्रांत स्तरीय राष्ट्रीय समूह गान, संस्कृत समूह गान एवं लोक गीत प्रतियोगिता के शुभारंभ समारोह में कही। उन्होंने भामाशाहो की तारीफ करते हुए कहा कि धन का सदुपयोग करने में क्षेत्र के भामाशाह जागरूक है। विशिष्ठ अतिथि वी.एल.कुमावत ने भारत विकास परिषद को भारत की एकता, अखंडता को मजबूती देने का महत्वपूर्ण प्रकल्प बताया। कार्यक्रम अध्यक्ष राष्ट्रीय मंत्री (मध्यप्रदेश) डी.डी.शर्मा ने कहा कि परिषद संपर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा समर्पण, बंधुत्व को बढ़ावा देने की दिशा में महत्वपूर्ण कार्य कर रही है। अधिक से अधिक लोग इस प्रकल्प से जुड़े, ताकि विकास की गंगा बहाने में सब भागीदार बन सकें। प्रांतीय अध्यक्ष अनिल चौरडि़या ने कहा कि परिषद आने वाले समय में जन सेवा व बालक-बालिकाओं के विकास के लिए और अधिक कदम उठाएंगी। उन्होंने भामाशाहों की तारीफ करते हुए कहा कि परिषद को अच्छा सहयोग मिल रहा है। कार्यक्रम में शाखा अध्यक्ष ओमप्रकाश मेहता व सचिव किशोर कुमार शर्मा ने परिषद द्वारा किए गए कार्यों व भावी योजनाओं पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में महासचिव सीताराम राठी, वीर दुर्गादास राठौड़ शाखा अध्यक्ष जसवंत गौड़, कोषाध्यक्ष महेश सुथार, एडवोकेट मदनलाल सिंघल, पूर्व अध्यक्ष ओमप्रकाश गुप्ता, खुशालनाथ धीर, जालोर जिलाध्यक्ष पदमाराम चौधरी, बाड़मेर जिलाध्यक्ष द्वारकादास गोयल सहित कई लोग उपस्थित रहे। प्रतियोगिता में बाड़मेर, बालोतरा, जालोर, पाली, जोधपुर सहित कई जिलों की टीमों ने भाग लिया। प्रतियोगिता में कई टीमों ने गीतों की प्रस्तुति दी। एक से बढ़कर एक मनमोहक गीतों की प्रस्तुतियांे की सभी ने सराहना की। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विश्नोई ने पीडब्ल्यूडी के पूर्व अतिरिक्त मुख्य अभियंता ताराचंद जाटोल, पुरूषोतम खत्री का साफा पहनाकर स्वागत किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों ने मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलन कर किया। तत्पश्चात अतिथियों का साफा पहनाकर सम्मान किया गया। बालिकाओं ने स्वागत गीत की प्रस्तुति दी। इसमें गान प्रतियोगता में पाली प्रथम, जोधपुर द्वितीय, बाड़मेर की बालिकाएं तृतीय रही। प््राांतीय प्रकल्प प्रमुख पुखराज राठी ने बताया कि राजस्थान पश्चिम प्रांत की 23 शाखाओं से लगभग 300 से अधिक छात्र-छात्राएं राष्ट्रीय चेतना के गीत व संस्कृत गीतों की प्रस्तुतियां दी। इस प्रतियोगिता में विजेता दल आगामी 12-13 नवंबर को पुणे में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय स्तर के आयोजन में प्रांत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top