बाड़मेर के नंदघर बने युवा उत्साह के प्रतीक
बाड़मेर।
वेदान्ता फाउंडेशन और महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के संयुक्त प्रयासों से नए युग के डिजिटल आंगनवाड़ी, पचास नंदघर के रूप में बाड़मेर को नयी पहचान देने के लिए तैयार हो चुके हैं। शीघ्र ही नई पीढ़ी के इन का औपचारिक उद्घाटन किया जायेगा, लेकिन उससे पूर्व, ये नंदघर स्थानीय युवा शक्ति के उत्साह से लाभान्वित हो रहे हैं। 
स्थानीय महाविद्यालयों में स्नातक पाठ्यक्रम में अध्ययनरत छात्राओं ने शनिवार को अटल सेवा केंद्र कवास, अलानियों की ढाणी और बालिका विद्यालय बायतु के निकट स्थित नंदघरों में वॉलंटियर कार्यक्रम के अन्तर्गत नन्हें मुन्नों के साथ अपना ज्ञान और अनुभव बांटने का बीड़ा उठाया है।
बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा टीपू, अणची और चम्पा के लिए नंदघर के बच्चों के साथ बिताये गए पल नए अनुभव को देने वाले साबित हुए। वालंटियर कार्यक्रम का उद्देश्य समुदाय के बीच आंगनवाड़ी के आधुनिक स्वरुप के लिए सहभागिता को बढ़ाना है। 
माननीय प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत, महिलाओ कौशल विकास, डिजिटल साक्षरता, मातृ एंव बाल स्वास्थ्य में सुधार के विज़न के साथ; वेदांता और महिला एंव बाल विकास मंत्रालय की साझेदारी में 11 राज्यों में 4000 मॉडल आंगनवाड़ी "नंदघर" का निर्माण करेगी। इस क्रम में पचास नंदघर का पहला क्लस्टर बाड़मेर जिले में सबसे पहले निर्मित किया जा चुका है। 
इमारत को ही सीखने का साधन बनाने और बच्चों को सर्वांगीण विकास के लिए नंदघर में टी.वी. के ज़रिए जीवंत शिक्षण की सुविधा भी होगी। प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सुनिश्चित करने के लिए नंदघर के प्रत्येक क्लस्टर में बच्चों, गर्भवती और स्तनपान कराने वाली स्त्रियों के लिए मोबाइल स्वास्थ्य वैन की सुविधा उपलब्ध रहेगी। नंदघर परियोजना राष्ट्र निर्माण में वेदांता की प्रतिबद्धता का हिस्सा है जो भारत में किसी भी कंपनी द्वारा सबसे बड़ी समुदाय निवेश परियोजनाओं में से एक है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top