बाड़मेर दलित भाइयो के सारे मामले प्राथमिकता से निपटाए, अब धरने का औचित्य नहीं :एसपी
बाड़मेर.
बाड़मेर ज़िला मुख्यालय पर पिछले 18 दिनों से चल रहे दलितों के धरने पर शनिवार को पुलिस अधीक्षक ने प्रेसवार्ता करते हुए कहा की  अनुसूचित जाति व जनजाति एक्ट में दर्ज होने वाले सभी मामलों में पुलिस की ओर से प्राथमिकता से गंभीरतापूर्वक कार्रवाई की जाती है। राज्य सरकार के भी यही दिशा निर्देश हैं। लेकिन पुलिस पर दबाव बनाकर कोई काम नहीं करवाया जा सकता है। दबाव में आकर पुलिस कोई काम नहीं करेगी। 

 दलित भाइयों क्या है औचित्य धरने का 

एसपी ने कहा कि दलित भाइयों की ओर से दिए जा रहे धरने का औचित्य क्या है, वे नहीं जानते हैं, क्योंकि दलित समुदाय के प्रतिनिधि उदाराम मेघवाल व लक्ष्मण बडेरा ने अनुसूचित जाति व जनजाति से संबंधित जिन मामलों की सूची प्रशासन व पुलिस को सुपुर्द की, उन सभी मामलों में हुए अपडेट की जानकारी जिला कलक्टर व स्वयं उन्होंने साथ बैठकर उन्हें दी। साथ ही दलित प्रतिनिधियों को बताया गया कि सभी मामलों में दूध का दूध व पानी का पानी होगा। 

छह जनों को गिरफ्तार किए 

एक मामले में एफआर दी गई है। सनाऊ गांव से संबंधित मामले में आठ आरोपितों में से छह जनों को गिरफ्तार कर सभी वाहन जब्त किए गए हैं। दो मामलों में एफआर दी गई है। कुल 21 प्रकरणों में आठ में चालान कर दिया गया है, छह में एफआर दी गई है। शेष प्रकरण अन्वेषणाधीन है।

व्यक्ति विशेष की गिरफ्तारी के लिए धरना

एसपी ने कहा कि जो धरना दिया जा रहा है, वह व्यक्ति विशेष की गिरफ्तारी के लिए दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल पम्प से संबंधित मामले की जांच चल रही है। बाड़मेर सीओ जांच कर रहे हैं। जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। जांच रिपोर्ट के अनुसार ही कार्रवाई की जाएगी। दबाव में आकर पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करेगी।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top