स्वास्थ्य बीमा योजना स्वास्थ्य मार्गदर्शकों ने लिया आॅनलाईन प्रशिक्षण
बाड़मेर।
भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत् राजकीय एवं निजी चिकित्सालयों में कार्यरत समस्त स्वास्थ्य मार्गदर्शकों के लिए आॅनलाईन प्रशिक्षण आयोजित किया गया। प्रशिक्षण में बीएसबाई के जिला नोडल अधिकारियों एवं संबधित कार्मिकों ने भाग लिया।
आॅनलाइन प्रषिक्षण में राज्य स्वास्थ्य एश्योरेंस एजेंसी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नवीन जैन ने चिकित्सालयों में उपचार हेतु भर्ती बीएसबीवाई लाभार्थियों को यथासंभव सहयोग करने एवं सुलभ उपचार उपलब्ध कराने सहित सभी आवश्यक दस्तावेज क्लेम भुगतान हेतु अपलोड़ करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि 3 लाख 65 हजार से अधिक क्लेम में से 18 हजार क्लेम प्रदेष में पेडिंग चल रहे हैं एवं इनके हल के लिए चिकित्सालय स्तर पर ही आवश्यक कार्यवाही की जानी है। उन्होंने रिजेक्ट हुए क्लेम का पुनः अध्ययन कर उनके रूके भुगतान के लिए आवश्यक समस्त जानकारियां अपलोड़ करने के निर्देश दिये। 48 घंटे की अवधि में उपचाररत् भर्ती लाभार्थी के परिजनों को प्रेरित कर उन्हें संबंधित दस्तावेज लेकर आने हेतु स्वास्थ्य
मार्गदर्शकों को निर्देशित किया।
वीडियो काॅन्फ्रंेसिंग में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. सुनील कुमार सिंह बिष्ट, एनएचएम के कार्यक्रम प्रबंधक श्री सचिन भार्गव, चिकित्सालयों के बीएसबीवाई नोडल अधिकारी एवं न्यू इंडिया एश्योरेंस 
कम्पनी के प्रतिनिधी व संबंधित अधिकारीगण मौजूद थे। 600 लोगों को भामाषाह स्वास्थ्य बीमा योजना की जानकारी दी जिले में चल रहे भामाषाह सुविधा षिविरों में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से भामाषाह स्वास्थ्य बीमा योजना के प्रचार-प्रसार के लिये कार्मिक आमजन को जानकारी उपलब्ध करवा रहे हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. सुनील कुमार सिंह बिष्ट ने बताया कि जिले में पंचायत समिति मुख्यालयों पर आयोजित षिविरों में अब तक 6 सौ से अधिक लोगों को योजना की जानकारी दी है। पांच अगस्त तक चलने वाले भामाषाह सुविधा षिविरों में आमजन को योजना की पूरी जानकारी पम्पलेट के माध्यम से दी जा रही है। षिविरों में शंका समाधान भी किया जा रहा है।
योजना की जानकारी से मिला निषुल्क उपचार का फायदा
षिविर में आये राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत चयनित ग्रामीण दिनेष ने बताया कि भामाषाह स्वास्थ्य बीमा योजना की पूरी जानकारी षिविर में मिली है। इसके बाद परिवार के सदस्यों के नाम भामाषाह कार्ड में जुड़वाने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। भामाषाह कार्ड में सभी सदस्यों के नाम जुड़ जाने से परिवार के अन्य सदस्यों को भी चिन्हित सरकारी व निजी अस्पताल में लाभ मिल सकेगा। भामाषाह कार्ड के बनवाने की प्रक्रिया के साथ ही कार्ड की रसीद पर लिखे ईआईडी से भी लाभार्थी की पहचान के बारे में स्वास्थ्य मार्गदर्षक आमजन को बता रहे है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top