गाजे-बाजे के साथ हुआ संतों का प्रवेश, जयपुर आईजी व बाड़मेर एसपी ने किए नाकोड़ा तीर्थ के दर्शन
बालोतरा.
जैन तीर्थ नाकोड़ा में आचार्य पुण्यरत्न सूरि, आचार्य यशोरत्नसूरी एवं पन्यास प्रवर धर्मरत्नविजयी सहित 30 साधु-साध्वियों का शनिवार को चातुर्मास प्रवेश हुआ। जुलूस में गाजे-बाजे के साथ इन्होंने मुख्य जिनालय में प्रवेश किया। जहां भगवान पाश्र्वनाथ व भैरव देव के दर्शन कर प्रवचन स्थल पर पहुंचे। वहां उनका अभिनंदन किया गया। नाकोड़ा ट्रस्ट मंडल से वीर वडेरा ने चातुर्मास के सफल आयोजन के लिए सहयोग की अपील की। 
इसके बाद दो पुस्तकों का विमोचन किया गया। इस दौरान सैंकड़ों श्रद्धालु उपस्थित रहे। चातुर्मास करवाने का लाभ पाडीव (सिरोही) निवासी समीबेन समरथमल रिखबदास वडगामीया सोलंकी कवरात परिवार ने लिया। नाकोड़ा तीर्थ पर सोमवार से चातुर्मास प्रारम्भ होगा। इन्समें वर्षीतप, सिद्धितप, सांकली, अठ्ठम, अ_ाई आदि अनेकानेक तपस्याएं होगी।
रविवार दोपहर 3 बजे प्रवचन में आचार्य पुण्यरत्नसूरि एवं यशोरत्नसूरि ने बताया कि शांत सुधा रस को अगर पीना है तो दो शर्त है, सांसारिक मोह ममत्व को कम करते हुए अनंत सुख को प्राप्त करने की प्यास जगानी पड़ेगी। धर्मरत्न विजय ने तीन माता का वर्णन किया। भगवान की माता करुणा है, साधु-साध्वी की माता अष्ट प्रवचन है और श्रावक-श्राविकाओं की माता जयणा है।

जयपुर आईजी व बाड़मेर एसपी ने किए दर्शन

नाकोड़ा तीर्थ पर रविवार को भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के वरिष्ठ अधिकारी भूपेंद्र कुमार दक व बाड़मेर पुलिस अधीक्षक (एसपी) गगनदीप सिंगला ने दर्शन किए। इनका ट्रस्ट मण्डल की ओर से बहुमान किया गया। इस दौरान ट्रस्ट के महेन्द्र चौपड़ा, गणपतचंद पटवारी, अशोक कुमार चौपड़ा, बाबूलाल सिंघवी, भंवरलाल डोसी, भरत कुमार ओसवाल, चन्द्रशेखर छाजेड़, दीपचंद सांखला, दिलीप कुमार बागरेचा, किशोर सिंघवी, लूणकरण बोथरा, महेश चन्द्र, नेमीचंद बोथरा, रणवीर, सुरेश मेहता, वीरचंद वडेरा आदि मौजूद थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top