ढाका में प्रतिभा दिखाएगा बाड़मेर का अली
बाड़मेर। 
थार की गलियों में खेलने वाले मोहम्मद अली अब देश के बेहतरीन बास्केटबॉल खिलाडिय़ों में शुमार हो गए हैं। उनका चयन देश की अण्डर 19 बास्केटबॉल टीम में हुआ है। अली बांग्लादेश में होने वाली दक्षिण एशिया बास्केटबॉल प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व कर बाड़मेर का नाम रोशन करेंगे।
शहर की मधुबल कॉलोनी में रहने वाले मेल नर्स प्रथम बशीर अहमद का पुत्र मोहम्मद अली बाड़मेर में पला-बढ़ा। उसने 5 वर्ष की उम्र में स्थानीय हाई स्कूल मैदान के बास्केटबॉल ग्राउण्ड से खेलना शुरू किया। जिला बास्केटबॉल संघ के अध्यक्ष जगदीश चौहान, सचिव गेमरसिंह सोढ़ा व लालसिंह के सान्निध्य में उसने खेल की बारीकियां सीखी। वर्ष 2010 से ही उसने प्रदेश में अपने खेल कौशल का लोहा मनवाना शुरू कर दिया। उसने अपनी प्रतिभा के दम पर राज्य स्तरीय सब जूनियर बास्केटबॉल प्रतियोगिता में बाड़मेर की टीम को चैम्पियनशिप दिलाई।
उसके बेहतरीन खेल का फायदा मिला और उसका चयन राज्य टीम में हुआ। हिमाचल प्रदेश में आयोजित राष्ट्रीय प्रतियोगिता में राज्य की टीम विजेता रही। वर्ष 2013 में कोलकाता में आयोजित राष्ट्रीय यूथ बास्केटबॉल प्रतियोगिता में राष्ट्रीय विजेता टीम में उसका चयन हुआ। इसी वर्ष उसका चयन तीसरे फिबा एशिया क्वालिफाइंग राउण्ड इण्डिया शिविर दिल्ली में हुआ, लेकिन भारतीय टीम में अली को जगह नहीं मिल पाई। वर्ष 2014 में दिल्ली में हुई राष्ट्रीय विद्यालयी बास्केटबॉल प्रतियोगिता की उप विजेता टीम में भी वह शामिल था। हाल ही में पुदुच्चेरी में हुए राष्ट्रीय चयन शिविर में उसे शामिल किया गया और अब उसका चयन भारतीय टीम में हुआ है। यह टीम 24 से 26 मई तक ढाका में होने वाली अण्डर 19 दक्षिण एशिया बास्केटबॉल प्रतियोगिता में हिस्सा लेगी।
तीन भाई, तीनों बास्केटबॉल खिलाड़ी
मोहम्मद अली के दो भाई हैं। वे भी बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं। बड़े भाई रोशन अली राज्य स्तरीय खिलाड़ी हैं और वर्तमान में पुलिस में हैं। उनसे छोटे मोहम्मद बचल भी बास्केटबॉल खिलाड़ी हैं और राज्य स्तर पर खेल चुके हैं।
बिना सुविधा हुआ चयन
अली सहित बाड़मेर के खिलाडिय़ों को बड़े राज्यों जैसी सुविधाएं नहीं मिलती। बावजूद इसके अली का चयन भारतीय टीम में होना बाड़मेर के लिए उपलब्धि है।
बशीर अहमद, अली के पिता

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top