कृषक परमार राजपूत आरक्षण के संयोजक प्रवीणसिंह आगोर गिरफ्तार, समर्थको में आक्रोश  
बाड़मेर 
कृषक परमार राजपूत आरक्षण के संयोजक प्रवीणसिंह आगोर को रविवार को उनके कार्यालय से हिरासत में लेने के बाद मामला बढ़ता जा रहा है।  सूत्रों के अनुसार हिरासत में लेने के बाद प्रवीण सिंह ने अन्न जल त्याग कर दिया। दरअसल, कृषक परमार राजपूतो को आरक्षण देने की मांग कर रहे सयोजक प्रवीण सिंह ने 1 मार्च को आत्मदाह करने की चेतावनी दी थी। धमकी के बाद पुलिस ने प्रवीण सिंह को हिरासत में लिया था। जिसके बाद करणी सेना के कार्यकर्ताओ ने कोतवाली थाने का घेराव किया। आक्रोशित कार्यकर्ता उन्हें रिहा की मांग कर रहे थे जिसे पुलिस ने तितर-बितर कर दिया। बाद में पुलिस ने प्रवीण सिंह को बाड़मेर एसडीएम के समक्ष पेश किया तो प्रवीण सिंह आगौर ने हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया । पुलिस इसके बाद प्रवीण को वापस कोतवाली थाने लाई हैं और थाने के बाहर कार्यकर्ताओ ने हंगामा करने की कोशिस की तो पुलिस ने भारी पुलिस बल किया तैनात कर दिया हैं। रात्रि 9.30 बजे तक चली जद्दोजहद के बाद पुलिस ने प्रवीण सिंह को जेल भेज दिया हैं। कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच रात्रि में ही प्रवीण सिंह को जेल में बन्द कर दिया गया। साथ ही राजपूत समाज में जबरदस्त आक्रोश हैं और रणनीति बनाने के लिए लोग एक निश्चित स्थान पर इकट्ठा होने की बात सामने आ रही हैं।
हिरासत में लेने से पहले रविवार को  जिला मुख्यालय बाड़मेर पर  कृषक परमार राजपूत आरक्षण के समाज के हजारो की संख्या में वाहन रैली निकालकर ओबीसी कोटे में शामिल कृषक परमार राजपूतो को आरक्षण का लाभ देने के लिए सरकार का ध्यानाकर्षण करवाया करणी सेनिको की रैली राणी रूपादे संस्थान से शुरू हुई जहाँ हजारो करणी सेनिको ने वाहन पर सवार होकर शहर की मुख्य सड़को से होते हुए जिला कलेक्ट्रेट पहुंचे जहाँ इस रैली का समापन हुआ इस मौके पर करणी सेना के जिलाध्यक्ष ने सरकार को ओबीसी कोटे में शामिल राजपूत समाज की जातियों को आरक्षण का लाभ देने के लिए 1 मार्च का अल्टीमेटम देते हुए आत्मदाह की चेतावनी दी है

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top