निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क वसूलने पर ई-मित्र केन्द्रों पर होगी कानूनी कार्यवाही
जैसलमेर। 
सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग द्वारा विभिन्न विभागों की सेवाओं को आजमन तक सुगमता से पहुंचाना के उद्देश्य से ई-मित्र केन्द्रों की स्थापना की गई है और इन सेवाओं के लिए शुल्क भी निर्धारित किये गये है। इस सम्बंध में सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग, जैसलमेर के उपनिदेशक श्री हरिशंकर अग्रवाल ने बताया कि ई-मित्र केन्द्र आमजन से राशन कार्ड, परीक्षा शुल्क, मूल निवास, जाति प्रमाण पत्र के लिए निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क वसूलने की शिकायतें प्राप्त हो रही है। इतना ही नहीं भामाशाह और आधार नामांकन निःशुल्क जैसी सेवाओं के लिए भी शुल्क वसूला जा रहा है। इस सम्बंध में शिकायत प्राप्त होने पर सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग के जिला कार्यालय द्वारा कार्यवाही करते हुए कुछ ई-मित्र केन्द्रों को निरस्त भी किया जा चुका है। तन्दुपरांत कई ई-मित्र केन्द्र आमजन से निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क वसूल रहे है।
इस अवसर पर अग्रवाल ने बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग, जयपुर द्वारा निर्देश प्राप्त हुए है कि यदि कोई ई-मित्र केन्द्र निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क वसूलता है तो उसका न केवल ई-मित्र केन्द्र निरस्त किया जायेगा बल्कि केन्द्र संचालक के खिलाफ कानूनी कार्यवाही करते हुए जुर्माना वसूला जावेगा। श्री अग्रवाल ने बताया कि सभी ई-मित्र को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि कोई ई-मित्र अधिक शुल्क वसूलता पाया जाता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जावेगी साथ ही उन्होंने आमजन से भी निर्धारित शुल्क से अधिक शुल्क न देने की सलाह दी है और कहा कि यदि कोई ई-मित्र केन्द्र ऐसा करता है तो उसकी शिकायत जिला कलेक्ट्रेट स्थित सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग में अपनी लिखित शिकायत करें, उस ई-मित्र केन्द्र के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जावेगी।
इस दौरान प्रोग्रामर श्रीमती जयश्री ने सभी ई-मित्र केन्द्रों को सलाह दी है कि अपने ई-मित्र केन्द्रों पर सेवाओं और निर्धारित शुल्क की सूची चस्पा करें जिससे आमजन को सेवाओं के शुल्क की जानकारी प्राप्त हो सके है और बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग, जैसलमेर टीम द्वारा कभी भी ई-मित्र केन्द्रों का आकस्मिक निरीक्षण किया जा सकता है, यदि किसी ई-मित्र केन्द्रों पर सूची चस्पा, ई-मित्र केन्द्र का बोर्ड नहीं पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी कार्यवाही की जावेगी।
पंचायत समिति जैसलमेर के प्रोग्रामर मनोज कुमार बिश्नोई ने ई-मित्र केन्द्रों के एल.एस.पी. के जिला और ब्लाॅक समन्वयक को भी अपने ई-मित्र केन्द्रों की प्रभावी ढंग से माॅनिटरिंग तथा सभी ई-मित्र केन्द्रों पर सेवाओं की शुल्क की सूची चस्पा करवाने हेतु निर्देशित किया है। इसके बावजूद भी यदि किसी ई-मित्र केन्द्र के विरूद्ध कोई शिकायत प्राप्त होती है तो जिला और ब्लाॅक समन्वयक पर भी कार्यवाही की जावेगी। साथ ही श्री बिश्नोई ने जिला एवं ब्लाॅक समन्वयक को सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग द्वारा आयोजित प्रशिक्षण, मिटिंग एवं विडियो काॅन्फ्रेसिंग में अनिवार्य रूप से उपस्थिति होने हेतु आदेशित किया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top