मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने की घोषणा, पुष्कर बनेगा टेम्पल टाउन
अजमेर 
मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि तीर्थ राज पुष्कर को तिरुपति की तर्ज पर टेम्पल टाउन के रूप में विकसित किया जाएगा। अजमेर की आनासागर और फायसागर झील के सौंदर्यीकरण एवं जल संरक्षण के लिए एक अलग संस्था का गठन कर योजना बनाकर काम शुरू किया जाएगा। प्रदेश के प्रत्येक जिले में एक धार्मिक स्थल को विकसित किया जाएगा।
शनिवार को बूढ़ा पुष्कर फीडर निर्माण शिलान्यास समारोह को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने कहा कि पुष्कर का धार्मिक महत्व पूरे विश्व में हैं, यहां देश दुनिया के कोने कोने से श्रद्धालु और पर्यटक आते हैं। अभी तो सिर्फ बूढ़ा पुष्कर फीडर का निर्माण शुरू कराया है, पुष्कर के विकास के लिए चार वर्ष का कार्यक्रम तैयार किया है।
तिरुपति की तर्ज पर पुष्कर को भी टेम्पल टाउन के रूप में विकसित किया जाएगा। पुष्कर में 24 कोस की परिक्रमा मार्ग तैयार करने के लिए प्रशासन के साथ बैठकर प्लान करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अजमेर को स्मार्ट सिटी में शामिल किया गया है। अजमेर की आनासागर और फॉयसागर झील के सौंदर्यीकरण और विकास के लिए अलग से संस्था बनाकर योजना तैयार की जाएगी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के प्रत्येक जिले में एक ऐसा स्थान है जिससे वहां की जनता का दिल जुड़ा हुआ है। राजनीति परिवार की बात होती है, परिवार की मुखिया को उस जिले की धड़कन को पहचान कर उसके विकास और सौंदर्यीकरण का काम करना है। नागौर में तेजाजी मंदिर और मीरा बाई के मंदिर का काम शुरू कराया है। हनुमानगढ़ में गोगामेड़ी के विकास का काम शुरू किया है जहां पर तीन प्रदेशों के लोग आते हैं। आगामी समय में गोगामेड़ी को देखकर दूसरे प्रदेशों के लोग भी प्रशंसा करेंगे।
नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर के साथ नाथद्वारा शहर में बगीचे, पहाड़ी को आकर्षित बनाया गया है। खोले के हनुमान जी मंदिर का विकास गत कार्यकाल में कराया था, इस बार सामोद मंदिर का काम शुरू कराया है। उन्होंने कहा कि जनता को भी विश्वास और श्रद्धा केसाथ धार्मिक स्थलों के विकास में सहयोग करना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पुष्कर प्रदेश में पेयजल संकट का भी ध्यान दिलाता है। पेयजल समस्या के स्थायी समाधान के लिए सरकार ने नदियों को जोडऩे का काम शुरू कर दिया है। प्रदेश में जल संसाधन मंत्री डॉ. रामप्रताप तो केन्द्र में जल संसाधन राज्यमंत्री सांवरलाल जाट इसकी जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने कहा कि छोटे छोटे काम जनता के सहयोग करने हैं, जनता इसे जन कार्यक्रम बनाकर काम हाथ में लेगी तो समस्या दूर होगी।
मुख्यमंत्री ने जनता से प्रदेश को स्वच्छ राजस्थान बनाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि केवल कभी पुष्कर में तो कभी अजमेर में दो तीन दिन झाडू लगाने से काम नहीं चलेगा। स्वच्छ राजस्थान कार्यक्रम से एक एक व्यक्ति को जुड़कर अपने घर परिवार, दफ्तर, दुकान, मौहल्ले और बाजारों को साफ रखना होगा। उन्होंने कहा कि इसमें सभी के जुडऩे से ही परेशानी का हल होगा।
मुख्यमंत्री ने बताया कि राजस्व अदालतों में लंबित मामलों की समस्या के समाधान के लिए न्याय आपके द्वार कार्यक्रम चलाया है। 25 दिनों में 5 लाख 25 हजार मामलों का निस्तारण हुआ है, अजमेर जिले में 45 हजार मामले निस्तारित हुए हैं।
15 जुलाई तक अदालतों में लंबित दो लाख मामले भी निस्तारित कराने का प्रयास किया जा रहा है। सभा को केन्द्रीय जल संसाधन राज्यमंत्री सांवरलाल जाट, शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी,महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री अनिता भदेल, विधायक भागीरथ चौधरी, शंकर सिंह रावत, राजस्थान धरोहर संरक्षण प्रोन्नति प्राधिकरण के अध्यक्ष ओंकार सिंह लखावत आदि ने भी सम्बोधित किया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top