Amit Shah to meet party workers in Rajasthanमोदी सरकार बड़े उद्योग घरानों की हितैषी सरकार नहीं : शाह
जयपुर। 
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा है कि हरियाणा और राजस्थान के गरीब किसानों की जमीन हथियाने और 69 लाख करोड़ का कोयला घोटाला करने वाली कांग्रेस को मोदी सरकार को बड़े उद्योग घरानों की सरकार बताने का हक नहीं हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार राजस्थान दौरे पर आए शाह शनिवार को अमरूदों के बाग में विशाल पार्टी कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार को बडे उद्योग घरानों की सरकार का आरोप लगाने वाली सोनिया गांधी यह भी बताएं कि 69 लाख करोड़ रूपए का कोयला घोटाला किसने किया था।
शाह ने कहा कि यदि हम कारपोरेट के हितेषी होते तो मात्र 20 कोयला खदानों की नीलामी से देश के विकास के लिए करीब दो लाख करोड़ रूपए एकत्र नहीं हो पाते। शाह ने मोदी सरकार की जन कल्याणकारी महत्वाकांक्षी योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री की जनधन योजना से देश भर में करीब 14 करोड़ गरीब परिवारों के बैंक खाते खुल जाने से वे भी अर्थतंत्र से जुड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 10 वर्षो में कांग्रेस के शासनकाल में कभी तेल के दाम क म नहीं हुए थे जबकि मोदी के सत्ता संभालने के बाद पेट्रोल और डीजल के दामों में भारी कमी आई हैं। उन्होंने कहा कि मोदी के "मेक इन इंडिया" का नारा साकार होने पर बेरोजगारी दूर होने के साथ ही गरीबी भी समाप्त हो जाएगी।
शाह ने कहा कि देश से बाहर जाने वाले काले धन को रोकने के लिए सरकार ने सख्त कानून बनाया है तथा जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि भाजपा के सत्ता में आने से पहले छोटे छोटे देश भी हमारी सीमाओं की ओर देखते थे लेकिन गोली का जवाब गोले से देने के बाद कोई आंख उठाकर भी भारत की सीमाओं की ओर देखने की हिम्मत नहीं कर रहा।
उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी दस साल तक अनेक देशों की यात्रा करते रहे लेकिन देशवासियों को आभास तक नहीं हुआ जबकि मोदी का विदेशों में लाखों लोग गर्मजोशी से स्वागत करते हैं और वह अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर हिन्दी में संबोधन देकर भारतवासियों को गौरवान्वित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मोदी ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मात्र 11 माह के शासन में यह सिद्ध कर दिया है कि भारत दुनिया को नेतृत्व देने के लिए प्रस्तुत हैं।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top