बाड़मेर RAS प्रदीप बालाच पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार
बाड़मेर।
बाड़मेर पुलिस ने पत्नी की हत्या के आरोप में राजस्थान प्रशासनिक सेवा के अधिकारी व जोधपुर के जिला आबकारी अधिकारी प्रदीप बालाच को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस शनिवार रात से उनसे पूछताछ कर रही थी। लम्बी पूछताछ में बालाच ने अपनी पत्नी नेहा की हत्या करना स्वीकार कर लिया। इसके बाद पुलिस ने रविवार शाम उन्हें गिरफ्तार कर लिया।
पुलिस का कहना है कि इस मामले में कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है। उल्लेखनीय है कि चार दिन पूर्व बाड़मेर के गडरा रोड क्षेत्र में देर रात एक मंदिर से लौटते समय नेहा की मौत हो गई। बालाच ने बताया कि चलती कार का दरवाजा खुलने के कारण नेहा नीचे गिर गई। सिर के बल गिरने के कारण उसे गहरी चोट लगी और बाड़मेर में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। बालाच ने बाड़मेर में अपनी पत्नी नेहा का पोस्टमार्टम भी नहीं करवाया। नेहा के अन्तिम संस्कार के बाद उसके पिता ने बाड़मेर के पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन देकर बालाच पर अपनी पुत्री की हत्या करने का आरोप लगाया था। इसके बाद उन्होंने इस सम्बन्ध में मामला भी दर्ज कराया। इस पर पुलिस ने नेहा का शव बाहर निकलवा कर उसका पोस्टमार्टम कराया।
पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नेहा के सिर पर चोट लगने की पुष्टि भी नहीं हुई। इसके बाद बालाच पर हत्या करने का शक पुख्ता हो गया था। पुलिस ने शनिवार रात पूछताछ के लिए बालाच को गडरा थाने में बुलाया, लेकिन देर रात तक वे थाने में नहीं पहुंचे। इसके बाद पुलिस बालाच को गडरा स्थित उनके घर से उठा कर ले आई। इसके बाद उनसे पूरी रात पूछताछ की गई। दोपहर तक मजबूत रहने के बाद बालाच टूट गया और उसने पुलिस के समक्ष अपनी पत्नी की हत्या करना स्वीकार कर लिया। पुलिस का कहना है कि इसके बाद बालाच को पत्नी की हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। इस मामले में कुछ और लोगों के शामिल होने की आशंका जताई जा रही है। पूछताछ के आधार पर मिली जानकारी की पुष्टि होने पर कुछ और गिरफ्तारियां हो सकती है।
जिला पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 23 अप्रैल 2015 को परिवादी भीमाराम पुत्र बस्ताराम द्वारा एक परिवादी इस आषय का पेष किया कि मेरी लड़की निर्मला उर्फ नेहा की षादी 2007 में मैने प्रदीप पुत्र प्रेम प्रकाष से बड़ी धुमधाम से की थी परन्तु षादी के बाद से ही मेरी बेटी को दहेज के लिये प्रताडि़त किया जा रहा था इत्यादी उसी के चलते 19 अप्रैल  को प्रदीप व उसके भाई हितेष ने नेहा की मृत्यु कारित कर उसे अपघात का नाम दे दिया। इत्यादि पर पुलिस अधीक्षक के आदेशानुसार मुकदमा नं0 21/2015 अन्तर्गत धारा 302, 498ए, 201 आई.पी.सी. दर्ज कर अनुसंधान बाबूलाल उप निरीक्षक, थानाधिकारी थाना गडरारोड़ द्वारा शुरू किया गया। मृतका की लाष को पूनः निकाल कर मेडीकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाया गया। मौका निरीक्षण किया गया, जिसमे ं अपघात के हालात जैसी स्थिती नजर नही आने पर प्रदीप बालाच से पूछताछ षुरु की गई। देर तक पूछताछ व उपलब्ध साक्ष्यांे के चलते आरोपी प्रदीप बालाच ने अपना जुर्म स्वीकार किया। प्रदीप के कथन अनुसार पारिवारिक कलेष के चलते पूर्व नियोजित तरिके से उसने अपनी पत्नि को टोने टोटके के बहाने सुनसान जगह पर ले गया व जब वह पूजा करने बैठी तब पीछे से लाठी से उसपे प्रहार किया, बाद मे ं पत्थर से भी पीटा जिससे वह बेहोष हो गई। बाद मे  इसी अवस्था मे ं गाड़ी मे ं बिठाकर इसे एक अपघात के रुप मे ं दिखाने के लिये बेहोष पत्नि को पीछे बिठाया व अपने भाई व बेटे को बुला लिया। मौके पर (मुनाबाव रोड़ पर जेसिन्धर गाॅव के पास) मोड़ पर गाड़ी का दरवाजा खोल कर धक्का दे दिया  जिससे यह दुर्घटना लग।े प्रदीप बालाच को जुर्म धारा 302, 498ए, 201 आईपीसी मे ं गिरफतार किया गया व उपयोग किया गया सरकारी वाहन जब्त किया गया। हितेष बालाच की तलाष जारी है। अग्रिम अनुसंधान वृताधिकारी चैहटन द्वारा किया जा रहा है। 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top