जैसलमेर ओलों के साथ फिर हुई आफत की बारिश 
जैसलमेर
सरहदी जैसलमेर जिले के नहरी क्षेत्र रामगढ़, नाचना, मोहनगढ़ व नोख में गुरुवार शाम को बादल बरस पड़े। रामगढ़, नाचना व मोहनगढ़ में बेमौसम की बारिश के साथ ओले भी गिरे। 
एकाएक बदले मौसम के मिजाज ने जन-जीवन अस्त व्यस्त कर दिया। लोगों को घरों व सुरक्षित आश्रयों की शरण लेनी पड़ी। उधर, बेमौसम की बारिश से खड़ी फसलों को भी नुकसान हुआ है। नहरी क्षेत्र में गुरुवार शाम को हुई ओलावृष्टि व बारिश के दौरान आशंकित किसान अपनी फसलों व काट कर जमा की गई फसलों को संभालते दिखे।
इससे पूर्व नहरी क्षेत्र रामगढ़, नाचना व मोहनगढ़ में दिन भर की गर्मी व उमस के बाद शाम को एकाएक मौसम का मिजाज बदला और आसमान में रेत का गुबार छा गया। कुछ ही देर में आकाश काले बादलों से ढक गया और बादल बरस पड़े। कभी तेज तो कभी धीमी गति से बारिश का दौर चलता रहा, इस दौरान नींबू के आकार के ओले भी गिरे। 
नोख में शाम को करीब दस मिनट बादल बरसने से मौसम खुशगवार हो गया। उधर, जैसलमेर शहर में दिन में गर्मी का सितम बना रहा। शाम को एकाएक मौसम पलटा और आसमान बादलों से घिर गया और आंधी चलनी शुरू हो गई। इस दौरान हवाओं का दौर भी शुरू हो गया। बारिश होने के आसार तो बने, लेकिन बादल बरसे नहीं।
जनजीवन प्रभावित
नाचना। क्षेत्र में शाम को मौसम के करवट बदलने से बेमौसम की बारिश व ओलावृष्टि शुरू हो गई। यह दौर करीब 20 मिनट तक चला। एकाएक मौसम बदलने से जन-जीवन प्रभावित हुआ। किसानों को भी फसलों के खराबे की चिंता नजर आने लगी है। बारिश के कारण गली-मोहल्ले व सड़कें पानी से तरबतर हो गए और मौसम ठंडा हो गया।
फसलें तबाह
रामगढ़। रामगढ़ के नहरी क्षेत्र में गुरुवार को देर शाम तूफानी बारिश के साथ हुई ओलावृष्टि से फसलें तबाह हो गई। रामगढ़ के नहरी क्षेत्र में सादा वितरिका, लाखा माइनर, रामगढ़ पाइप माइनर, तनोट वितरिका, टिबड़ा माइनर, भोजराज माइनर, भाटीया माइनर, डिच माइनर एम व एन, साला माईनर, आसुतार वितरिका सहित समूचे नहरी क्षेत्र में नींबू के आकार के ओले पड़े। मुरब्बों में काटी हुई व खड़ी फसलें पूरी तरह से चौपट हो गई। किसानों ने बताया कि पूर्व में मौसम की मार से फसलें प्रभावित हुई थी और अब ओलावृष्टि से रही सही फसलें भी नष्ट हो गई।
गर्जना के साथ हुई बारिश
नोख। गांव में गुरुवार शाम को दस मिनट तक बादल बरसने से मौसम खुशगवार हो गया। दिनभर बादल छाए रहने के बाद शाम करीब सवा सात बजे घोर गर्जना के साथ बारिश शुरू हुई। तेज बौछारों के साथ करीब दस मिनट तक बारिश होने से सड़कें गीली हो गई और परनाले बहने लगे। बारिश के बाद ठंडी हवाओं से मौसम खुशगवार हो गया। इसके बाद भी बूंदाबांदी का दौर चलता रहा।
सड़कों पर जमा पानी 
मोहनगढ़। क्षेत्र में शाम करीब साढ़े सात बजे तेज बौछारों के साथ बारिश शुरू हो गई। इस दौरान नींबू के आकार के ओले भी गिरे। कभी तेज तो कभी धीमी गति से करीब आधे घंटे तक बारिश का यह दौर चलता रहा। बारिश के बाद सड़कों पर पानी जमा हो गया और राहगीरों व वाहन चालकों को आवाजाही में असुविधा का सामना करना पड़ा। किसानों के चेहरे पर भी फसल खराबे की चिंता झलक रही है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top