जैव विविधता दिवस मनाया 
बाड़मेर 
आज लीलाधोरा नर्सरी परिसर में अन्तर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस का आयोजन किया गया। उक्त समारोह में वन सुरक्षा एवं प्रबन्ध समितियों के पदाधिकारी वन कर्मचारी एवं गणमान्य नागरिकगण ने भाग लिया। विषय विषेषज्ञ ओम जोषी ने जैव विविधता के परिपेक्ष में भारत के आदिवासी क्षैत्र में पाई जाने वाली परम्पराओं, लोगो के प्रकृति प्रेम, लोग गीतो में पेड़ पौधों का महत्व व उपयोगिता पर प्रकाष डाला। उन्होने सिकिम राज्य का उदाहरण देते हुए वहां पाये जाने वाले तितलियों एवं फुलों के किस्मो का वर्णन करते हुए जैव विविधता के महत्व पर प्रकाष डाला। उन्होने बाड़मेर जिले में लुप्त हो रही प्रजातियों के संरक्षण पर जोर दिया। 

समारोह में वनरक्षक चिमनी शर्मा ने राज्य में लोगो के पर्यावरणीय प्रेम एवं जैव विविधता के विविध आयामों पर प्रकाष डाला। उप वन संरक्षक बाड़मेर ने जैव विविधता के संरक्षण की आवष्यकता की जानकारी देते हुए जैव विविधता अधिनियम 2002 के प्रावधानों पर प्रकाष डालते हुए इसके महत्व की जानकारी दी। लक्ष्मण लाल ने उक्त अधिनियम के तहत जैव विविधता प्रबन्ध समितियों के गठनएवं समितियों के अधिकार एवं कर्तव्यों पर भी प्रकाष डाला। उनके द्वारा यह बताया गया कि इस दिषा में प्रषिक्षण कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे एवं तदोपरान्त समितियों का गठन किया जायेगा। उन्होने सिवाना रेंज के हल्देष्वर वन क्षैत्र में पायी जाने वाली दुर्लभ वृक्ष प्रजातियों की जानकारी भी संभागियों को दी। कार्यक्रम संयोजक मंगलाराम शर्मा ने कार्यक्रम के उदेष्यों पर प्रकाष डालते हुए जैव विविधता के आर्थिक एवं सामाजिक महत्व पर प्रकाष डाला। क्षैत्रीय वन अधिकारी बाड़मेर धीराराम ने कार्यक्रम के अंत में धन्यवाद ज्ञापित किया। 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top