कांग्रेस-भाजपा में टिकट को लेकर गुटबाजी जारी 
जयपुर। 
राजस्थान में आगामी एक दिसंबर को हो रहे विधानसभा चुनाव के लिए सत्तारूढ दल कांग्रेस और प्रमुख विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) गुटबाजी के चलते अपने उम्मीदवार तय नहीं कर पाई हैं।
भाजपा की शुक्रवार को होने वाली केन्द्रीय चुनाव समिति की बैठक स्थगित हो गई है जबकि कांग्रेस की छानबीन समिति की शुक्रवार दिल्ली में होने वाली बैठक में उम्मीदवार चयन को लेकर फिर मशक्कत होगी।
सूत्रों ने बताया कि दोनों ही प्रमुख दल पूरे दो सौ सीटों पर अपने उम्मीदवार तय नहीं कर पाए तथा मौजूदा विधायकों को लेकर भी एक राय नहीं बन पा रही है। भाजपा में हालांकि मौजूदा विधायकों को लेकर ज्यादा मतभेद नहीं है और पार्टी दस-बारह को छोड़कर सभी को फिर मौका देने की फिराक में है।
पिछली बार विधायकों के ज्यादा टिकट काटने से पार्टी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा था जिससे सबक लेकर वह इस गलती को नहीं दोहराना चाहती है। टिकट की दावेदारी को लेकर गुटबाजी बनी हुई है तथा पार्टी आलाकमान को टिकट तय करने में काफी जोर आजमाइश करनी पड़ रही है।
कांग्रेस में सत्ता विरोधी लहर को कम करने के लिए मंत्री एवं विधायकों की छंटनी का मानस बन रहा है। विधायकों को इसका पता चलने पर उन्होंने भी दबाव बनाना शुरू कर दिया है। विधायकों के टिकट कटने की खबर से कई दावेदार बन गए है और उनका विधायकों से टकराव भी शुरू हो गया है।
मण्डावा में मौजूदा विधायक रीटा चौधरी ने भी खुलेआम ऎलान कर दिया कि उनका टिकट काट कर प्रदेश अध्यक्ष डा. चन्द्रभान को दिया गया तो वह निर्दलीय चुनाव लड़कर कांग्रेस को हराएंगी। टिकट पर अंतिम फैसला नहीं होने से उम्मीदवार भरोसे में है और ज्यादातर सीटों पर शांति बनी हुई है लेकिन उम्मीदवारों की सूची आते ही जूतमपैजार शुरू हो सकती है। पार्टी आलाकमान भी इसे देखकर ही सूची जारी करने में देरी कर रहा है।

इधर भाजपा के 79 विधायकों में दस बारह को छोड़कर सभी को चुनाव मैदान में उतारने की तैयारी की जा रही है। पिछली बार कम मतों से हारे उम्मीदवारों को भी मौका देने पर सहमति बन चुकी है। दांतारामगढ में नावां से विधायक रहे हरीश कुमावत को लड़ाया जाएगा तथा लक्ष्मणगढ से पूर्व केन्द्रीय मंत्री सुभाष महरिया को पार्टी मौका दे रही है।
संभावित उम्मीदवारों को लेकर कार्यकर्ता भी नजर गड़ाए हुए हैं और एक सीट पर एक से ज्यादा की दावेदारी के कारण गुटबाजी बनी हुई है। टिकट वितरण के बाद इसमें और तेजी आ सकती है लिहाजा नामों की घोषणा में जल्दबाजी नहीं दिखाई जा रही है।
टिकट तय करने के बाद की प्रतिक्रिया का भी दोनों ही दल अध्ययन कर रहे है इसलिए एक दूसरे के संभावित प्रत्याशियों की टोह ली जा रही है। दोनों ही दल पहली सूची जारी करने में जल्दबाजी नहीं कर रहे हैं और दीपावली से पहलेे कोर्ई सूची जारी भी हुर्ई तो उनमें उन्हीं उम्मीदवारों के नाम होंगे जिन पर दो राय नहीं है। 




0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top