नियति ने ढाया कहर, राज ने दिया सुकून भरा सफर

- डॉ. दीपक आचार्य
जिला सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी,
जैसलमेर
गरीबों और जरूरतमन्दों के लिए सरकार की योजनाएं कितनी जीवनदायी होती हैं इसका ज्वलंतप्रमाण है सरहदी जैसलमेर जिले की बोहा ग्राम पंचायत के लाखा गाँव का रहने वाला गोरधनसिंह और उसकापरिवार। यह गांव जैसलमेर जिला मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूरी पर है।
नियति ने इस परिवार पर निर्ममता से इतना कहर बरपाया कि विपन्नता और अभावों के अंधकार सेघिरे इन लोगों का जीना दूभर हो चला था। इस बीच राज्य सरकार की योजनाओं ने इस परिवार को अंधेरों सेउबारा और इतना संबल दे दिया है कि आज यह परिवार आत्मनिर्भर होकर जीवन निर्वाह का सुकून पा रहा है।
अभावों की वजह से अभिशप्त रहे इस परिवार को हमेशा यह बात याद रहती है कि कठिन दिनों के दौरमें सरकार का संरक्षण नहीं मिलता तो आज हालात कितने पीड़ादायी होते, इसकी कल्पना तक नहीं की जासकती।

टूट पड़ा विपत्तियों का पहाड़ एक साथ
इस गाँव के 28 वर्षीय गोरधन सिंह पर ही है पूरे परिवार को चलाने का जिम्मा। मात्रा चौदह वर्ष कीआयु में गोरधनसिंह की नेत्रा ज्योति चली गई। उन दिनों वह छठी कक्षा मंे पढ़ता था कि अचानक दिमाग केतंत्रिका तंत्रा में गड़बड़ी आ गई। इससे उसकी आँखें जवाब दे गई तभी से वह पूर्ण नेत्राहीन है। उन दिनों नेत्राहीनोंकी पढ़ाई के लिए शिक्षा की व्यवस्था होने की जानकारी के अभाव के कारण वह आगे अध्ययन नहीं कर पाया।
गोरधनसिंह की जिन्दगी पर विपत्तियों के कई पहाड़ एक साथ टूट पड़े। पिता सगतसिंह का साया भीसर से उठ गया। माताजी एवं तीन भाइयों के पालन-पोषण और घर चलाने का जिम्मा भी उसी पर आ पड़ा।इन सारी विपदाओं की घड़ी में कुछ समय जैसे-तैसे गुजरा। गोरधनसिंह की माँ मेहनत-मजदूरी करकेअपना घर चलाने लगी। गोरधनसिंह भी अपनी माँ के काम में मदद कर दिया करता।


योजनाओं से आया उजियारा
इसी बीच सरकारी योजनाओं की जानकारी उस तक पहुंची। इसके बाद उसने अपने परिचितों से सम्पर्ककर योजनाओं के बारे में जाना तथा आवेदन किया। आज सरकार की योजनाओं की बदौलत गोरधनसिंह कोविकलांग पेंशन मिल रही है जबकि उसकी माँ को विधवा पेंशन की सुविधा मिल रही है।
गोरधनसिंह के परिवार को चलाने के लिए उसे आत्मनिर्भरता देना जरूरी था। इसी सोच के साथगोरधनसिंह का चयन सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग की विश्वास योजना में किया गया। इस योजनामें एक लाख रुपए का ऋण दिए जाने का प्रावधान है जिसमें से 30 प्रतिशत राशि सामाजिक न्याय एवंअधिकारिता विभाग से अनुदान के रूप में दी जाती है। गोरधनसिंह को उसकी जरूरत के अनुसार विश्वास योजनामें पचास हजार का ऋण स्वीकृत किया गया। जिसमें से उसे पन्द्रह हजार रुपए का अनुदान मिला।
इस ऋण से गोरधनसिंह ने गाँव में ही घर पर ही किराणा की छोटी सी दुकान खोल ली। अपनी दुकानके लिए वह सामान जैसलमेर से लाता है।

दुकान ने सुधारी माली हालत
इस दुकान से उसे औसतन दो हजार रुपए मासिक आय हो जाती है। अपनी दुकान अब गोरधनसिंह केलिए रोजगार का स्थायी और पक्का साधन हो गया है। इससे उसकी तथा परिवार की कई समस्याओं व अभावोंका खात्मा हो गया है

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top