शहरवासियों को अब नहीं रहेगी पेयजल की दिक्कत,

जैसलमेर, 12 दिसम्बर
मोहनगढ़ से जैसलमेर शहर तक 57 किलोमीटर पाईपलाईन बिछाकर शहरवासियों तक पानी पहुंचाने की योजना ने बुधवार को आकार ले लिया जब जिला कलक्टर शुचि त्यागी की पहल पर नहरी पानी पहुंचना शुरू हो गया।इस दृष्टि से बुधवार का दिन जैसलमेर शहरवासियों के लिए ऎतिहासिक रहा है। यह पेयजल परियोजना फिलहाल परीक्षण के तौर पर शुरू की गई है। इससे जैसलमेर शहर के 75 हजार लोग लाभान्वित होंगे।यहां फिल्टर हाउस में जिला कलक्टर शुचि त्यागी के निर्देश पर यह योजना परीक्षण के तौर पर आरंभ कर दी गई। इससे जैसलमेर शहर को अब आने वाले कई वर्षों तक पानी की किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं रहेगी।आर.यू.आई.डी.पी. की महत्वाकांक्षी परियोजना मोहनगढ़ से जैसलमेर तक बिछाई गई पाईप लाईन से पानी लाने का कार्य जिला कलेक्टर श्रीमति शुचि त्यागी के निर्देशन में आज ट्रायल रन के रूप में आर.यू.आई.डी.पी. एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में प्रारम्भ की गई।
जिला कलेक्टर शुचि त्यागी ने जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिकारियों को अविलम्ब इस पानी को उपयोग करने के निर्देश प्रदान किये। साथ ही यह हिदायत भी दी कि पानी की उपलब्धता को देखते हुए जैसलमेर शहर में पानी की सप्लाई प्रतिदिन तथा पूरे दबाव के साथ करने की व्यवस्था सुनिश्चित करावें। जो व्यक्ति पानी सप्लाई के लिए बूस्टर पम्प का उपयोग कर रहे है उनके खिलाफ कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।वर्तमान में जैसलमेर शहर में डाबला एवं देवा माईनर से पानी का वितरण किया जा रहा है। यह पानी जैसलमेर शहर की सप्लाई के लिए पर्याप्त नहीं है। इस कारण वर्तमान में पानी की सप्लाई पूर्ण दबाव के साथ एवं रोजाना नहीं हो पाती है।आर.यू.आई.डी.पी. परियोजना के तहत मोहनगढ़ से जैसलमेर शहर तक 600 मिमी व्यास की नई57 किमी पाईप लाईन बिछाई गई एवं मोहनगढ़ में रॉ वाटर पम्पिंग स्टेशन का निर्माण करवाया गया एवं पानी की सप्लाई प्रारम्भ कर दी गई है। इससे जैसलमेर शहरवासियों को नियमित पूर्ण दबाव से पानी मिलना लक्षित है। इस परियोजना की कुल लागत 83.33 करोड़ है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top