सेक्स कारोबार में लेडी कांस्टेबल का नाम 

जयपुर। 
राजस्थान पुलिस के सब इंस्पेक्टर व महिला कांस्टेबल पर देह व्यापार में धकेलने के आरोप लगने के बाद एक बार फिर पुलिस को लेकर आमजन में गलत संदेश जा रहा है। हालांकि मामले में आरोपों की सच्चाई पर जांच अभी पीडिता के बयानों पर टिकी हुई है। 
lady-police-sex-racketजानकारी के अनुसार पीडिता के पिता की ओर गत चार सितंबर सब इंस्पेक्टर,महिला कांस्टेबल सहित पांच पर पुत्री को देह व्यापार में ढकेलने का आरोप लगाया गया था। मामले के दर्ज होने के बीस दिन बाद भी बालिका के बयान व मेडिकल नहीं होना पुलिस की कार्यश्ौली पर सवाल लगा रहा है। 
जांच कर रही पुलिस का कहना है कि पीडिता के बयान दर्ज करने को लेकर कई बार उसके घर पर दस्तक भी दी गई, लेकिन मानसिक संतुलन ठीक नहीं होने के चलते बैरंग लौटना पड़ा। 

बाप ने लगाए बेटी से दुराचार के आरोप

उल्लेखनीय है कि आगरा रोड निवासी एक व्यक्ति ने इस्तगासा के जरिए दर्ज मामले में उनके घर पर किराए से रहने वाले सब इंस्पेक्टर बनवारी लाल सब इंस्पेक्टर, दूर संचार में महिला कांस्टेबल के पद पर कार्यरत ज्योति चौहान व निरंजन चौहान व दो अन्य पर षडयंत्र रचकर मोबाइल के जरिए उसकी पुत्री की अश्लील क्लीपिंग बनाने, लज्जा भंग करने, देह व्यापार में धकेल कर उसकी गलत तस्वीरें खींच लेने, क्लीपिंग व तस्वीरों को उजागर कर देने का भय दिखाकर उसे वैश्यावृत्ति मे लिप्त करवाने का मामला दर्ज कराया है। 

सुस्त पड़ी पुलिस कार्रवाई

पीडिता के पिता की ओर से करीब बीस दिन पहले इस्तागासा के जरिए आदर्श नगर थाने पर मामला दर्ज कराया गया था। लेकिन कार्रवाई में पुलिस की सुस्त चाल के चलते मामला अटका हुआ है। मामले की जांच कर रहे आदर्श नगर थाने के सब इंस्पेक्टर का कहना है कि दर्ज मामले में पूछताछ करते हुए पीडिता के पिता के अलावा अन्य परिजनों के बयान दर्ज कर लिए गए हैं,अभी पीडिता के बयानों का आना बाकी है। उसके आधार पर ही मामले की जांच को दिशा दी जाएंगी।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top