संसद में राहुल की पहुंच महज 20 फीसदी 
नई दिल्ली। 
कांग्रेस पार्टी के महासचिव और पीएम पद के लिए पार्टी के अघोषित उम्मीदवार राहुल गांधी की संसद में उपस्थिति बेहद कम आंकी गई है। संसद की 15वीं लोक सभा के तीसरे वर्ष राहुल ने महज 20.4 फीसदी उपस्थिति दर्ज कराई है। ऎसे ही हालात अन्य युवा नेताओं के भी है। इनमें सबसे युवा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी शामिल है। अखिलेश की उपस्थिति का प्रतिशत 26.35 रहा है। जबकि कई वरिष्ठ नेताओं ने उपस्थिति के मामले में शतप्रतिशत प्रदर्शन किया है।
जानकारी के अनुसार राहुल लोक सभा में मई 2011 से मई 2012 तक 85 बैठकों में से कुवल 24 दिन मौजूद रहे। जबकि अखिलेश यादव 31 दिन मौजूद रहे। सिद्धू और कुमारस्वामी केवल 15 दिन ही अपनी उपस्थिति दर्ज करवा पाए हैं। राहुल के साथ ही जनता दल(सेक्युलर) नेता एच.डी. कुमारस्वामी,उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री और समाजवादी पार्टी नेता अखिलेश यादव और भारतीय जनता पार्टी के नवजोत सिंह सिद्धू का नाम भी उन नेताओं में शामिल हो गया है जिनकी उपस्थिति बहुत कम आंकी गई है। यह जानकारी एक एनजीओ "जागरूकता के लिए जनसंचार" की ओर से तैयार की गई रिपोर्ट "काम पर प्रतिनिधि"- 15 लोक सभा 2011-12 से प्राप्त हुई है।
कॉंग्रेज नेता सुरेश कलमाडी 30 दिन उपस्थित रहे जबकि झाारखंड के पूर्व मुख्य मंत्री मधु कोडा लोक सभा की केवल 25 बैठकों में ही उपस्थित रहे। यूपीए अध्यक्ष और कॉंग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी 85 दिनों में से 34 दिन उपस्थित रहीं। गौरतलब है कि वे एक अज्ञात बीमारी का इलाज करवाने विदेश गई हुई थीं।
लालकृष्ण आडवाणी की अटेंडेंस 100 फीसदी 
संसद में उपस्थिति के मामले में कई वरिष्ठ नेताओं ने शतप्रतिशत प्रदर्शन किया है। इनमें भाजपा के एलके आडवाणी,निर्मल खत्री,पी.एल. पुनिया,जेपी अग्रवाल,एल.के.आडवाणी,एम. थांबीदुराई शामिल हैं।
ए राजा सबसे फिसड्डी
सबसे कम उपस्थिति ए.राजा की दर्ज की गई। वे केवल चार दिन ही उपस्थित रहे। गौरतलब है कि ए.राजा को 2जी स्प्ेक्ट्रम मामले में जेल भी हुई थी।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top