दीदी का होगा न्यूज पेपर-न्यूज चैनल 
कोलकाता। पश्चिम बंगाल सरकार ने एक तात्कालिक कदम उठाते हुए अब अपना न्यूज पेपर और न्यूज चैनल लाना तय किया है। सरकार के इस फैसले को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की उस घोषणा से जाकर देखा जा रहा है जिसमें उन्होंने कहा था कि सरकार अब अपनी उपब्घियों और गतिविधियों को इन माध्यमों के जरिए जनता तक पहुंचाएगी। बनर्जी का कहना था कि मीडिया जानबूझकर मनगढंत समाचार पेश कर सरकार की नकारात्मक रूप में पेश कर रहा है। ममता ने मीडिया पर नाराजगी जताते हुए कहा कि हर चीज की एक सीमा होती है। स्वतंत्रता के अपने अधिकार है पर आप अपनी राय दूसरों पर नहीं थोप सकते। कलम हाथ में होने का अर्थ यह नहीं है कि हाथ में समस्त अधिकार आ गए।मालूम हो कि इससे पहले बनर्जी ने उत्तरी 24 परगना जिले में एक सभा को संबोधित करते हुए जनता को अजीब सलाह दी थी कि उन्हें कुछ न्यूज चैनल नहीं देखने चाहिएं तथा इसके बजाए मनोरंजन चैनल देखने चाहिए। ममता ने अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं से कहा कि वे कुछ टीवी चैनल नहीं देखें और इसके बजाए संगीत सुनें। उन्होंने मीडिया के एक वर्ग की पक्षपाती होने तथा उनकी सरकार की बुरी छवि पेश करने को लेकर भी निंदा की। ममता ने कहा, सीपीआई (एम) के दो से तीन टीवी चैनल हैं जिन्हें आपको नहीं देखना चाहिए। इसके बजाए आप संगीत सुनिए या अन्य चैनल देखिए। 
ममता ने कहा जब वे पिछले 34 साल के वामपंथी शासन के दौरान खत्म हो गए बंगाल के गौरव को लौटाने के लिए अथक प्रयास कर रही थीं तब अफवाहें फैलाई गई। ममता ने कहा, मुझ पर उंगली उठाने की मैं परवाह नहीं करती। मैं केवल बंगाल की मां, माटी और मानुष की चिंता करती हूं। नकारात्मक प्रचार मुझे राज्य के विकास के लिए काम करने से नहीं रोक सकता। ममता ने कहा, कई लोग चाहते हैं कि सरकार किसानों की भूमि जबरन ले तथा सेज को फिर से आने दे, लेकिन मैं ऎसा कभी नहीं होने दूंगी।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top