बारिश के कारण 11 रन से हारा भारत
जोहानसबर्ग। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एकमात्र ट्वंटी-20 मैच में भारत डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर 11 रन से हार गया। भारत को जीत के लिए 220 रन का कठिन लक्ष्य मिला था। सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर और रोबिन उथप्पा ने भारतीय पारी की शुरूआत अच्छी की और 7.5 ओवर में भारत का स्कोर बिना किसी नुकसान के 71 रन तक पहुंचाया। तभी वर्षा के कारण आगे का खेल संभव नहीं हो सका। गंभीर ने 49 रन की नाबाद पारी में सात चौके और एक छक्का लगाया। रोबिन उथप्पा 18 रन पर नाबाद रहे।
इससे पूर्व अनुभवी जैक्स कालिस और युवा बल्लेबाज कोलिन इंग्राम की अगुवाई में दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों ने चार विकेट पर 219 रन का विशाल स्कोर बनाया। कालिस ने 42 गेंद पर पांच चौकों और दो छक्कों की मदद से 61, जबकि इंग्राम ने 50 गेंद पर आठ चौकों और तीन छक्कों की मदद से 78 रन बनाए। इन दोनों ने दूसरे विकेट के लिए 13.2 ओवर में 119 रन की रिकार्ड साझेदारी भी की। अपना पहला मैच खेल रहे फरहान बेहरडीन (नाबाद 20), जस्टिन ओंटोंग (22), रिचर्ड लेवी (आठ गेंद पर 19) और एल्बी मोर्कल (तीन गेंद पर नाबाद 16 रन) ने भी उपयोग योगदान दिया। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने अपने कामचलाऊ गेंदबाजों पर अधिक भरोसा दिखाया।
उन्होंने रिकार्ड आठ गेंदबाजों का उपयोग किया। सुरेश रैना ने दो विकेट लिए, लेकिन इसके लिए उन्होंने 49 रन लुटाए। उन्होंने पारी के आखिरी ओवर में 26 रन दिए, जिससे दक्षिण अफ्रीका आखिरी चार ओवर में 71 रन ठोकने में सफल रहा। भारत ने टॉस जीतकर दक्षिण अफ्रीका को पहले बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। इरफान पठान ने मैच के दूसरे ओवर में ही रिचर्ड लेवी के तूफानी तेवरों को ठंडा करके भारत को अच्छी शुरूआत दिलाई। लेवी ने पारी के पहले ओवर में प्रवीण कुमार की गेंदों पर लगातार दो चौके जमाए और फिर इरफान की दूसरी और तीसरी गेंद को भी यही सबक सिखाया, लेकिन चौथी उनके बल्ले का किनारा लेकर पहली स्लिप में खड़े रोहित शर्मा के पास चली गई। उनकी जगह पर उतरे इंग्राम ने चौके से शुरूआत की, जिससे दो ओवर में स्कोर 27 रन हो गया। प्रवीण की जगह तीसरा ओवर करने आए विनय कुमार ने इस ओवर में केवल दो रन दिए, लेकिन उनके अगले ओवर में कालिस ने कवर और मिड ऑन पर चौके जमाए। इस अनुभवी बल्लेबाज ने यूसुफ पठान का स्वागत लांग ऑन पर छक्का जड़कर किया।
धोनी ने गेंदबाजी में लगातार बदलाव किए, लेकिन वे दक्षिण अफ्रीकी बल्लेबाजों को रन जुटाने से नहीं रोक पाए। आलम यह था कि 12 ओवर तक सात गेंदबाजों का उपयोग कर दिया गया था। इग्राम ने अश्विन की गेंद को डीप मिडविकेट पर छह रन के लिए भेजा तो कालिस ने यही सबक रोहित को सिखाकर धोनी की परेशानी बढ़ा दी। इस छक्के से दक्षिण अफ्रीका ने केवल 11.2 ओवर में 100 रन भी पूरे किए। धोनी ने आठवें गेंदबाज के तौर पर विराट कोहली को याद किया और कालिस ने उन पर लगातार तीन चौके जड़कर इस ओवर में कुल 15 रन बटोरे। इंग्राम ने कोहली के इस ओवर में एक रन लेकर ट्वंटी-20 अंतरराष्ट्रीय में अपना पहला अर्द्धशतक पूरा किया, जबकि अगली गेंद पर कालिस इस मुकाम पर पहुंचे।
यह उनका इस प्रारूप में पांचवां अर्द्धशतक है। अश्विन के अगले ओवर में इनग्राम ने लांग ऑन पर छक्का जमाया, लेकिन जब कैलिस इसी तरह की कोशिश में सीमा रेखा के बेहद करीब खड़े रोहित को कैच दे बैठे। वे हालांकि तब तक दक्षिण अफ्रीका की तरफ से दूसरे विकेट के लिए सर्वश्रेष साझेदारी के साझेदार बन चुके थे। इससे पहले का रिकार्ड ग्रीम स्मिथ और हर्शल गिब्स के नाम पर था, जिन्होंने 2006 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इसी मैदान पर 111 रन जोड़े थे। कैलिस 15वें ओवर की आखिरी गेंद पर आउट हुए और तब स्कोर 141 रन था। इंग्राम ने इसके बाद विनय की लगातार तीन गेंद पर एक छक्का और दो चौके लगाए। रैना के अगले ओवर में रोहित ने डाइव लगाकर बेहतरीन कैच से इनग्राम की पारी का अंत किया। यह पारी का उनका तीसरा कैच था।
रैना बने सबसे खर्चीले भारतीय गेंदबाज
कामचलाऊ स्पिनर सुरेश रैना ने दक्षिण अफ्रीका की पारी के आखिरी ओवर में 26 रन लुटाए, जो भारत की तरफ से ट्वंटी-20 क्रिकेट में रिकार्ड है। रैना ने युवराज सिंह का रिकार्ड तोड़ा, जिन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ 2007 में एक ओवर में 25 रन दिए थे। रैना का पारी का आखिरी ओवर घटनाप्रधान रहा। इसमें पहली दो गेंद पर जस्टिन ओंटोंग ने चौका और छक्का लगाया, जबकि तीसरी गेंद पर वे बोल्ड हो गए। नए बल्लेबाज एल्बी मोर्कल ने आखिरी तीन गेंद पर दो छक्के और एक चौका जड़ा।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top