ग्रामीणों को स्वच्छता अभियान में भागीदारी का संकल्प दिलाया
बाड़मेर ।
स्वच्छता अभियान मंे आमजन की भागीदारी जरूरी है। हमंे इसमंे मात्र औपचारिता नहीं बल्कि सच्चे दिल से सहभागिता सुनिश्चित करनी होगी। खीपसर ग्राम पंचायत मुख्यालय पर स्वच्छ भारत मिशन, केयर्न इंडिया एवं आरडीओ के संयुक्त तत्वावधान मंे आयोजित जागरूकता कार्यक्रम के दौरान डा.यू.वी.द्विवेदी ने यह बात कही। 

इस अवसर पर डा.द्विवेदी ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन देश के लिए बहुत अच्छा अभियान है। उन्हांेने कहा कि हर नागरिक की सहभागिता से ही पूरे देश को स्वच्छ बनाने का सपना साकार हो पाएगा। उन्हांेने कहा कि स्वच्छता समय की मांग है। बिना स्वच्छता अपनाए हम स्वस्थ नहीं रह सकते। खुले में शौच करने से मच्छर, मक्खी पैदा होते हैं। जिससे बीमारियां फैलती है। मच्छर, मक्खी, गंदगी ऊपर बैठकर बीमारियों को जन्म देते हैं। इसलिए हमें खुले में बिलकुल भी शौच नहीं करना चाहिए। स्वच्छ भारत मिशन के जिला समन्वयक पुष्पेन्द्रसिंह सोढ़ा ने कहा कि आमतौर पर गाँवों के घरों में शौचालय नहीं होते हैं और शौच के लिये सभी लोग गाँव के बाहर जाते हैं। इससे गदंगी बढ़ जाती है जबकि शौचालय के इस्तेमाल से स्वच्छता बनी रहती है और बीमारियों की रोकथाम भी सम्भव है। उन्हांेने कहा कि सरकारी प्रयासांे की बदौलत अब लोगांे मंे जागरूकता आ रही है। आरडीओ के राजेश गुप्ता ने कहा कि घर मंे शौचालयांे का निर्माण होने से विशेषकर महिलाआंे को होने वाली समस्याआंे से भी राहत मिल जाती है। उन्हांेने स्वच्छता को आम आदमी की पहली जरूरत बताते हुए कहा कि आमतौर पर भोजन से पूर्व कई बार हाथ धोने की परिपाटी नहीं है। उन्हांेने कहा कि साफ-सफाई और हाथ धोने की आदत नहीं होने से भी बीमारियाँ पनपती हैं। उन्हांेने कहा कि बिना स्वच्छता के अच्छी सेहत की बात करना बेमानी है। उन्हांेने स्वच्छता को आदत बनाने की जरूरत जताई। इस दौरान सरपंच पवनी देवी ने ग्राम पंचायत को खुले मंे शौच से मुक्त कराने का भरोसा दिलाया। इस अवसर पर आरडीओ के जोगाराम, पूर्व सरपंच जोगाराम जांदू, ग्रामसेवक मंजूदेवी, कनिष्ठ लिपिक उम्मेदाराम, प्रधानाचार्य धोकलाराम समेत कई गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। जागरूकता कार्यक्रम के दौरान ग्रामीणांे को नाटक एवं विभिन्न सांस्कृतिक प्रस्तुतियांे के जरिए स्वच्छता का संदेश दिया गया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top