बजट की पुरानी अवधारणा को भी बदलेगें - केन्द्रीय वित्त राज्यमंत्री
जयपुर। 
केन्द्रीय वित्त एवं कॉर्पाेरेट राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार द्वारा देश में कई सुधार किये जा रहे है। उन्होंने कहा कि जीएसटी लागू करना सरकार की एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि पहली बार कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक एक राष्ट्र एक कर लागू किया जा रहा है।  मेघवाल गुरूवार को श्रीगंगानगर के कलेक्ट्रेट सभा हॉल में आयोजित कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि विश्व के अधिकांश देशों में आम बजट एक जनवरी से दिसम्बर तक होता है। हमारे निर्यातकों द्वारा एक से अधिक देशों में वितीय वर्ष अलग-अलग होने के कारण परेशानी होती है। केन्द्र सरकार भी इसे जनवरी से दिसम्बर करेगी, लेकिन इस बार फरवरी में कोई भी तिथि जल्द तय होने वाली है। उन्होंने कहा कि एक अप्रेल से देश भर में जीएसटी लागू किया जायेगा। उन्हाेंने कहा कि इस दिशा में भी कुछ काम ओर बाकी है। उन्होंने श्रीगंगानगर जिले में चल रही विकास योजनाओं पर चर्चा की तथा आवश्यक निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिला अंतर्राष्ट्रीय सीमा से सटा होने के कारण तथा सर्जिकल स्ट्राईक के कारण भी इस क्षेत्र को विकास के लिये अधिक राशि मिलनी चाहिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिये कि केन्द्र सरकार द्वारा जो भी योजनाएं संचालित है। उन योजनाओं के अधिक प्रस्ताव तैयार किये जाये, जिससे इस क्षेत्र को विकास के लिये अधिक राशि मिल सकें। उन्होंने प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम योजना में नये गांवों के प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिये। केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि दीनदयाल उपाध्याय शताब्दी वर्ष होने के कारण दीनदयाल के नाम से जितनी भी योजनाएं है, उनमें आर्थिक संसाधनों की कमी नही रहेगी। उन्होंने बिजली, पानी तथा सड़क विकास के लिये प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अलावा भी युवाओं को स्टेंड अप इंडिया के लिये 10 लाख से एक करोड़ रुपये तक की राशि का ऋण मुहैया करवाया जा रहा है। उन्होंने भारत माला परियोजना को एक अच्छी परियोजना बताया और कहा कि यह परियोजना 1000 करोड़ की थी, जो अब 2067 करोड़ की हो गयी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में जो सिंगल सड़के बनी थी, उन्हें चौड़ा कर डबल सड़क बनायी जायेगी। कैमिकल कंपनी को देने होंगे 18 करोड़ का मुआवजा केन्द्रीय राज्यमंत्री ने कहा कि बीकानेर क्षेत्र में एक केमिकल कंपनी ने मुंगफली की फसल दो गुणी करने के नाम पर अपना उत्पाद विक्रय किया। उस कैमिकल से मुंगफली की फसल खराब हो गयी। भारत सरकार ने इसे गंभीरता से लिया तथा जिन 28 गांवों में जिन किसानों की मूंगफली की फसल खराब हुई थी, उन्हें केमिकल कंपनी की ओर से 18 करोड़ रुपये की राशि का मुआवजा दिलवाया जायेगा। सूरतगढ़ विधायक राजेन्द्र सिंह भादू ने मुद्रा योजना के तहत युवाओं को ऋण देने का सुझाव दिया। उन्होंने जैतसर में मूंग खरीद सेन्टर शुरू करने का आग्रह किया। केन्द्रीय राज्यमंत्री ने आश्वस्त किया कि जरूरत के अनुसार मूंग क्रय खरीद सेन्टर खोले जायेंगे। किसान की मोठ व ग्वार की फसल भी समर्थित मूल्य में शामिल करने पर चर्चा हुई। बैठक में जिला कलक्टर पी.सी.किशन, पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी, अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीमती रचना भाटिया, नगरपरिषद आयुक्त श्रीमती सुनीता चौधरी, जिला आबकारी अधिकारी अशोक असीजा के अलावा पेयजल, विधुत, परिवहन, पशुपालन, विधुत सहित विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे। गंगानगर टे्रडर्स एसोसिएशन द्वारा सेमीनार का आयोजन जीएसटी से व्यापारियों व आमजन को होगा लाभ केन्द्रीय वित्त एवं कॉर्पोरेट राज्यमंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने कहा कि जीएसटी से देश में वस्तुओं की दरों में एकरूपता आयेगी तथा इससे व्यापारी व आमजन को लाभ होगा। केन्द्रीय राज्यमंत्री गुरूवार को अनाजमंडी श्रीगंगानगर में श्रीगंगानगर टे्रडर्स ऎसोसिएशन द्वारा आयोजित सेमीनार में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि जीएसटी को लेकर कुछ भ्रांतियां है, जिन्हें दूर किया जाना चाहिए। भारत सरकार द्वारा जीएसटी लाने से एक देश में एक टैक्स की परम्परा लागू होगी। वर्तमान में देश में विभिन्न राज्यों में अलग-अलग तरह की वस्तुओं पर अलग-अलग टैक्स की दरें है तथा कई प्रकार के टैक्स है, जिनसे व्यापारी वर्ग को मुक्ति मिलेगी। एक देश एक टैक्स के सिद्धांत को अपनाया है उन्होंने कहा कि जीएसटी से पूरे देश में एक वस्तु एक ही दर पर मिलेगी। उत्पाद सस्ते होंगे तथा देश की आय में भी बढ़ोतरी होगी। उत्पाद सस्ते होने से सभी वर्ग लाभान्वित होंगे। इस अवसर पर महेन्द्र सिंह सोढ़ी, न्यास अध्यक्ष संजय महिपाल, सूरतगढ़ विधायक राजेन्द्र सिंह भादू, उद्यमी बी.डी.अग्रवाल सहित व्यापारी व गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top