नई पीढ़ी में संस्कारों की महती आवश्यकता:- बोहरा 
पांच दिवसीय शिविर में 200 बालक-बालिकाओं ने लिया भाग
बाड़मेर
स्थानीय गुणसागरसूरि साधना भवन में श्री अचलगच्छ युवक परिषद के तत्वावधान एवं श्री चातुर्मास कमेटी अचलगच्छ जैन श्रीसंघ, बाड़मेर के सहयोग से आयोजित पांच दिवसीय श्री आर्यगुण समयश्री संस्कार शिविर का समापन कार्यक्रम परम् पूज्य साध्वीश्री प्रशांतगुणाश्री जी म.सा., लक्षगुणाश्री, हर्षितगुणाश्री, रजतगुणाश्री, जिनागमगुणाश्री मं.सा. आदि ठाणा की पावन निश्रा, रामजी का गोल प्रतिष महोत्सव समिति के मुख्य संयोजक व सुश्रावक भीमराज बोहरा के मुख्य आतिथ्य, गोपाल गोशाला के अध्यक्ष व रामजी की गोल प्रतिष्ठा के कार्याध्यक्ष शंकरलाल पड़ाईया की अध्यक्षता एवं रामजी का गोल ट्रस्ट के महामंत्री पत्रकार लूणकरण पड़ाईयां के अति-विशिष्ट आतिथ्य में आयोजित हुआ ।
शिविर संयोजक मुकेश बोहरा अमन ने बताया कि दीपावली के अवकाश को देखते हुए शुक्रवार 22 अक्टुम्बर को साध्वी भगवन्तों की निश्रा में आयोजित हुए संस्कार शिविर में जैन समाज के 12 बर्ष से 22 वर्ष तक की आयुवर्ग के 200 बच्चों ने श्री आर्यगुण समयश्री संस्कार शिविर में भाग लेते हुए पांच दिनों में जैन धार्मिक क्रियाओं, संस्कारों एवं व्यावहारिक जीवन को लेकर ज्ञानार्जन किया । समापन कार्यक्रम के आगाज में अचलगच्छ जैन युवक परिषद की ओर से अतिथियों का स्वागत किया । वहीं कार्यक्रम में अतिथियों ने विभिन्न प्रतियोगिताओं में अव्वल रहने वाले बच्चों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया 
शिविर के बालक-बालिकाओं को आशीर्वाद देते हुए मुख्य आतिथ रामजी का गोल प्रतिष महोत्सव समिति के मुख्य संयोजक व सुश्रावक भीमराज बोहरा ने कहा कि संस्कार मनुष्य जीवन का आभूषण है । वहीं देश के भविष्य एवं नई पीढ़ी में संस्कारों की महती आवश्यकता है । कार्यक्रम में गोपाल गोशाला के अध्यक्ष व रामजी की गोल प्रतिष्ठा के कार्याध्यक्ष शंकरलाल पड़ाईया ने शिविर के बच्चों को सम्बोधित करते हुए बच्चों को शिविर में सीखी बातों को जीवन में उतारने की बात कही । अति-विशिष्ट आतिथि रामजी का गोल ट्रस्ट के महामंत्री पत्रकार लूणकरण पड़ाईयां ने रामजी की गोल की प्रतिष्ठा के बारे में जानकारी देते हुए बच्चों को सद् नागरिक बनने की बात कही और कहा कि यह संस्कार शिविर भावी जीवन में बहुत की उपयोगी साबित होते है ।
कार्यक्रम में अपने प्रवचन में साध्वीश्री हर्षितगुणाश्री म.सा. ने शिविर के बच्चों को प्रवचन देते हुए शिविर सिखाये ज्ञान को जीवन में उतारने व देव, धर्म, गुरू की आज्ञा पालन की बात कही । 
कार्यक्रम के अन्त में अरूण वड़ेरा ने सभी अतिथियों एवं सहयोगी संस्थाओं का धन्यवाद व आभार ज्ञापित किया । कार्यक्रम का संचालन मुकेश बोहरा अमन ने किया । शिविर के उद्घाटन कार्यक्रम में पारसमल जैन, अरूण वड़ेरा, मदन बोहरा, संजय बोहरा, प्रकाश बोहरा सहित अचलगच्छ जैन श्रीसंघ, चातुर्मास कमेटी, अचलगच्छ युवक परिषद, महिला मण्डल एवं बालिका मण्डल व बड़ी संख्या में महिला-पुरूष, बच्चे उपस्थित रहे ।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top