बाड़मेर हज यात्रा कर लौटा तीसरा जत्था, आये 12 हाजी

रेलवे स्टेशन पर हुई अमनो-अमान और खुशहाली की दुआएं
बाड़मेर।
सेन्ट्रल हज कमेटी कि ओर से चयनित बाड़मेर शहर सहित सीमावर्ती इलाके से हज की मुक्कदस यात्रा कर मालाणी ट्रेन से लौटे हाजियों का मुस्लिम भाइयों ने गले मिलकर मालाएँ पहनाकर इस्तक़बाल किया। हाजियों के रिश्तेदार और मिलने वाले मोमीन भाइयों ने 
हाजियों पर फूल बरसाये और माला पहनाकर ख़ुशी जाहिर करते हुए मुबारकबाद पेश की। इस दौरान हाजियों से मुसाफा लेते हुए हाजियों व परिजनों की आँखों से ख़ुशी के आँसू छलक पड़े। 
हज ट्रेनर बच्चू खान कुम्हार ने बताया कि हाजियों के तीसरे जत्थे में 12 हाजी हज की मुक्कदस यात्रा पूरी कर बाड़मेर पहुंचे। रेल्वें स्टेशन पर अलसुबह ही हाजियों के रिश्तेदार और मिलने वालों का हुजूम उमड़ पड़ा। लोग हाजियों का इस्तक़बाल करने और मुबारकबाद देने के लिए अपने हाथों में मालाएं लेकर बेसब्री से इंतज़ार करते नज़र आये। 
ये रहे मौजूद-
हज यात्रा करके लौटे हाजी कचरा खान, हाजी अब्दुला खान, हाजी सफी खान, हजन शिला इत्यादी हाजियों का मोलवी अब्दुल करीम, धनाऊ ब्लॉक शिक्षा अधिकारी हाजी लतीफ खान, अली मोहम्मद जी, रोशन खान खलीफा, हाजी समद खान, दोस्त अली, अध्यापक सोबदार, मोहम्मद हनीफ कुम्हार, मौलाना मीर मोहम्मद, मुस्लिम इंतेजामिया कमेटी के प्रचार मंत्री शाह मोहम्मद सिपाही, सयुंक्त सचिव शाह मोहम्मद कोटवाल, सदस्य बरकत हुसैन, ऑल इंडिया कौमी एकता कमेटी के महामंत्री अबरार मोहम्मद, हज ट्रेनर बच्चू खान कुम्हार, आदिल भाई, ।ैप् मगन खान, ब्प् रशीद खान, हाजी दीन मोहम्मद, मेजर सूबेदार अब्दुल हमीद, कबूल खान, इनायत भाई नोहडी, मोहम्मद खान फौजी, हासम खान, युसूफ खान समेजा, जमाल खान, मोलवी सरादीन पूर्व सरपंच भोजरिया, हाजी जमाल, हाजी हयात खान, एडवोकेट कमाल खान, सहित कई मुस्लिम भाइयों ने मालाएं पहनाकर इस्तक़बाल कर मुबरक़बाद पेश की। 
वतन लौटे हाजियों ने मांगी दुआएँ: हज से लौटे हाजियों ने वतन वापसी पर देश की खुशहाली, अमनो अमान व आपसी भाईचारे की दुआएँ कर देश की तरक्की की कामना की।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top