गरीबी उन्मूलन एवं आजीविका संवर्धन में नए आयाम स्थापित करेंःठाकुर
बाड़मेर जिले में महिलाओ के आर्थिक स्थिति में सुधार को हस्त शिल्प एवं फेशन डिजाइन के क्षेत्र में विकल्प तलाशने के निर्देश।
बाड़मेर।
स्वयं सहायता समूह के माध्यम से गांव की गरीब महिलाआंे को आत्म निर्भर बनाने को किए जा रहे प्रयास भविष्य मंे मील का पत्थर साबित होंगे। महिलाएं अपनी रूचि के कार्य प्रारंभ करके गरीबी उन्मूलन एवं आजीविका संवर्धन मंे नए आयाम स्थापित करें। बाड़मेर जिले के प्रभारी सचिव राजीव सिंह ठाकुर ने शुक्रवार को आदर्श ढूंढा ग्राम पंचायत मंे पश्चिमी राजस्थान गरीबी शमन परियोजना के तहत एमपावर एसआर सोसायटी के कृष्णा ग्राम संगठन की ओर से आयोजित बैठक के दौरान यह बात कही।
प्रभारी सचिव राजीव सिंह ठाकुर ने कहा कि स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाएं महात्मा गांधी नरेगा योजना एवं स्वच्छ भारत मिशन से जुड़कर उल्लेखनीय कार्य कर सकती है। उन्हांेने महिलाआंे से खेतांे मंे फलदार पौधे लगवाने तथा ग्राम पंचायतांे को खुले मंे शौच से मुक्त कराने मंे महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का आहवान किया। उन्हांेने कहा कि राज्य सरकार की ओर से महिलाओं की आर्थिक स्थिति मे सुधार लाने के लिए सकारात्मक प्रयास किए जा रहे है। ठाकुर ने कहा कि बाड़मेर जिले मंे हस्तशिल्प विकास की संभावना तलाशते हुए महिलाआंे को मौजूदा समय की डिजाइन से जोड़ने के साथ उनकी मेहनत की वास्तविक लागत दिलाने के प्रयास करने होंगे। उन्हांेने कहा कि महिलाएं स्वयं सहायता समूह के जरिए महात्मा गांधी नरेगा, कृषि, उद्यानिकी मंे भागीदारी सुनिश्चित करें। उन्हांेने फेडरेशन निर्माण की कार्य योजना की सराहना करते हुए कहा कि इसके जरिए लंबे समय तक ग्रामीण विकास एवं महिलाआंे के आर्थिक संबल की रूपरेखा तैयार की जा सकती है। इस दौरान कृष्णा ग्राम संगठन समेत विभिन्न स्वयं सहायता समूह की महिलाआंे ने रोजगार से जोड़ने के लिए चलाई जा रही गतिविधियांे की जानकारी दी। प्रभारी सचिव ठाकुर ने एमपावर से संबंधित गतिविधियांे एवं समूह गठन की प्रकिया के बारे मंे विस्तार से जानकारी ली। इस अवसर पर एमपावर के ब्लाक परियोजना प्रबंधक बायतू के विमल वशिष्ट ने बताया कि बायतू मंे 1300 समूहांे का गठन किया गया है। बैठक मंे एसआर सोसायटी, श्योर, ग्राम विकास नवयुवक मंडल लापुडि़या, भैरूका चेरिटेबल ट्रस्ट के प्रतिनिधियांे ने भाग लिया। इस अवसर पर ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान के विक्रमसिंह ने महिलाआंे को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए हस्तशिल्प के क्षेत्र मंे फेशन डिजाइन एवं खादी तथा उन कताई को प्राथमिकता देने का मामला उठाया। बैठक के दौरान जिला कलक्टर सुधीर शर्मा, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा, अतिरिक्त जिला कार्यक्रम समन्वयक सुरेश कुमार दाधीच, बाड़मेर पंचायत समिति के विकास अधिकारी नवलाराम चौधरी उपस्थित रहे।
महिलाओ ने कहा कि वे करेगी गांवो का विकासः 
स्वयं सहायता समूह की गतिविधियां के बारे मंे जानकारी लेते हुए प्रभारी सचिव राजीवसिंह ठाकुर ने महिलाआंे से पूछा कि फेडरेशन बनाकर क्या करेगी। इस पर महिलाआंे ने कहा कि वे गांवांे का विकास करेगी। उन्हांेने कहा कि फेडरेशन को अपने स्तर पर संचालित करेगी। हालांकि शुरूआती दौर मंे थोड़ा सा सपोर्ट चाहिए। ठाकुर ने महिलाआंे से ग्रामीण विकास योजनाआंे मंे भागीदारी सुनिश्चित करने एवं उसके जरिए फेडरेशन की गतिविधियांे को संचालित करने को कहा। उन्हांेने कहा कि महिलाएं स्वच्छ भारत मिशन मंे सहयोग करते हुए अपने घर मंे शौचालय बनवाने के साथ अन्य लोगांे को भी इसका निर्माण करवाने के लिए प्रेरित करें। उन्हांेने कहा कि पहले महिला स्वयं सहायता समूह मिलकर तय करें कि उनको क्या कार्य करना है। इसके उपरांत प्रशासन की ओर से एक एमओयू करते हुए उनकी आवश्यकता के अनुरूप विकास कार्य करवाने का जिम्मा सौंपा जाएगा।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top