जिनालयों व उपारयों में तप-तपस्या-आराधना की बहेगी सरिता
बाड़मेर
जैन धर्म के पर्वाधिराज पर्व पर्युषण का अनूठे महोत्सव का आगाज सोमवार 29 अगस्त से होगा । जैनल धर्म के पर्युषण पर्व के इन दिनों में तप, तपसया, त्याग व साधना-आराधना की सरिता बहेगी । जैन युवा संगठन के अध्यक्ष मुकेश बोहरा ने बताया कि पर्वाधिराज पर्व पर्युषण के आगमन को लेकर जहां जैन धर्मावलम्बियों में खुशी का माहौल है, वहीं जैन धर्म के जिनालयों व उपाश्रयों की चिताकर्षक सजावट व रोशनी को लेकर विशेष तैयारियां की जा रही है । वहीं 29 अगस्त से प्रारम्भ होने वाले पर्वाधिराज पर्व पर्युषण के दौरान साधु-साध्वियों गुरू-भगवन्तों की पावन निश्रा में साधना भवन, आराधना भवन, तेरापंथ भवन व स्थानक भवन में कई धार्मिक व सांसकृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जायेगा । 
वही इन दिनों में जिनालयों में विशेष पूजा-अर्चना व परमात्मा की आंगी रचना के साथ-साथ कई सामाजिक, धार्मिक व सांस्कृतिक गतिविधियों व प्रतियोगिताओं का आयोजन होगा । उपाश्रयों में इन दिनों में भगवान महावीर की वाणी को जन-जन तक पहुंचाने को लेकर प्रातःकालीन विशेष प्रवचनों का आयोजन होगा । और साधु-साध्वी भगवन्तों की निश्रा ध्यान-धर्म और साधना की त्रिवेणी प्रवाहित होगी । इन दिनों में उपवास, पोषध, त्याग, प्रतिक्रमण, सामायिक सहित कई क्रियाओं व प्रक्रियाओं का आयोजन होगा ।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top