मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के द्वितीय चरण को प्रभावी ढंग से संचालित करावें-जिला कलक्टर
वर्षा जल के संग्रहण एवं संरक्षण कार्यो को अधिकाधिक कराने के निर्देष
जैसलमेर। 
जिला कलक्टर मातादीन शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान मुख्यमंत्री महोदया का ड्रीम प्रोजेक्ट है। उन्हांेने जिले में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के द्वितीय चरण को प्रभावी ढंग से संचालित कर प्रथम चरण की तुलना में बेहतर परिणाम लाने हंै। उन्होंने कहा कि जल महत्व के इस अभियान में वर्षा जल संग्रहण एवं संरक्षण के कार्यो को अधिकाधिक लेकर गांव को जल के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना है।
जिला कलक्टर शर्मा मंगलवार को अटल सेवा केन्द्र जिला परिषद में आयोजित मुख्यमंत्री जल स्वावलबंन अभियान के द्वितीय चरण के जिला स्तरीय प्रषिक्षण के दौरान संभागीयों को संबोधित कर रहे थें। कार्यषाला मंे मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणंिसंह चारण,उपखंड अधिकारी जैसलमेर संजयकुमार वासु,पोकरण काषीराम चैहान,अधीक्षण अभियंता वाटरषेड भागीरथ विष्नोई के साथ ही विकास अधिकारी एवं संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। जिला कलक्टर शर्मा ने कहा कि इस अभियान के प्रथम चरण में जल संरक्षण से जुडे अच्छे कार्य हुए है लेकिन हमें द्वितीय चरण में भी और अधिक अच्छे कार्य लेकर बेहतर परिणाम देने है। उन्हांेने कहा कि इस अभियान को जन-जन का अभियान बनाकर अधिक से अधिक लोगों की सहभागिता दर्ज करानी हेैं।
जिला कलक्टर शर्मा ने इस अभियान से जुडे अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे राज्य सरकार के दिषा निर्देषों की पालना में कार्याे को डीपीआर में सम्मिलित करावें एवं उसका प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन करावें। उन्होंने कहा कि जिला स्तरीय प्रषिक्षण के दौरान अभियान के संचालन के संबंध में जो जानकारी प्रदान कि गई है उसको गहनता से समझकर उसकी क्रियान्वियति समय पर एवं गुणवता से करानी है। उन्होंने टाईमलाईन के अनुरुप सभी कार्य समय पर संपादित करने के निर्देष दिए। उन्होंने इस अभियान के अन्तर्गत ब्लाॅक स्तर पर भी प्रभावी ढंग से प्रषिक्षण आयोजित करने के निर्देष दिए वहीं इस योजना का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करने पर जोर दिया।
उन्हांेने इस अभियान के संबंध में निर्धारित कलेण्डर के अनुरुप द्वितीय चरण के चयनित गांव में ग्राम सभाओं का आयोजन कर कार्यो का अनुमोदन करावें। उन्होंने अधीक्षण अभियंता वाटरषेड को निर्देष दिए कि वे इस अभियान का उत्साह के साथ आगाज करावें एवं इसमें पुरा जन-धन सहयोग भी प्राप्त करें। उन्होंने अभियान से जुडे अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे उनके विभाग के कार्यो को इसमें करावें। उन्होंने आषा जताई की सभी अधिकारी टीम भावना के साथ कार्य कर जल संरक्षण के महत्व के अभियान को बेहतर गति प्रदान करेंगंे एवं अच्छे कार्य करवायेगें।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणसिंह चारण ने बताया कि जिले में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के अन्तर्गत तीनों पंचायत समितियों की सात ग्राम पंचायतों में 19 गावों का चयन किया गया है। उन्होंने बताया कि इस अभियान में ग्राम  पीथोडाई, भोपा, कीता, भू, सडिया, छोड, सिरुवा, भाखरानी, देवीकोट, मोढागणेषपुरा,सांगाणा मेघा,काठोडा,रामपुरा,नया सनावडा,प्रतापपुरा,मोडरडी,नानणियाई व नई गुड्डी चयनित किए गए है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे गंभीरता से इस अभियान में कार्य संपादित करावें एवं समय पर डीपीआर तैयार करावें।
अधीक्षण अभियंता वाटरषेड भागीरथ विष्नोंई ने जिला स्तरीय कार्यषाला के दौरान संभागियों को पावरपाइंट के प्रेजेन्टेषन के माध्यम से विस्तार से प्रषिक्षण प्रदान किया एवं अभियान के दौरान की जाने वाली गतिविधियों की जानकारी प्रदान की एवं कलेण्डर के अनुरुप क्या-क्या कार्य किए जाने है उसकी भी जानकारी प्रदान की।
कार्यषाला में विकास अधिकारी लादूराम विष्नोई,टीकमाराम चैधरी,उपनिदेषक कृषि राधेष्याम नारवाल,सहायक अभियंता जल संसाधन ओ.पी.विष्नोई,अध्ंिाषाषी अभियंता वाटरषेड गंगासिंह,भूजल वैज्ञानिक डाॅ0 एन.डी.इणखिया,प्रतिनिधि डेजर्ट डवलपमेन्ट सोसायटी मालमसिंह जामडा एवं अन्य संभागी उपस्थित थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top