बैंको से सामाजिक क्षेत्र को प्राथमिकता के निर्देश
बाड़मेर।
बैंकों से केवल वाण्जियिक दृष्टिकोण अपनाकर व्यवसाय करने की बजाय सामाजिक क्षेत्र में भी अपने दायित्वों के निर्वहन पर जोर देते हुए जिला कलेक्टर सुधीर शर्मा ने उन्हें समाज के विभिन्न वर्गो के कल्याण के लिए कार्य करने के निर्देश दिए है। वे शुक्रवार को कलक्ट्रेट कांफ्रेन्स हॉल में जिला स्तरीय साख समीक्षा समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे।
इस मौके पर जिला कलेक्टर शर्मा ने कहा कि सरकार द्वारा प्रायोजित विभिन्न ऋण योजनाओं में सकारात्मक सोच के साथ कार्य कर पात्र लोगों को लाभ पहुंचाए ताकि उनकी आर्थिक उन्नति हो सकें। उन्होने कहा कि बैंक प्रतिनिधि समय पर पूर्ण सूचनाएं भिजवाये तथा निर्धारित समय पर बैठक में उपस्थित रहें ताकि योजनाओं की प्रगति की समीक्षा की जा सकें। उन्होने किसान क्लबों को सक्रिय करने तथा उनकी गतिविधियों का व्यापक प्रचार प्रसार करने के निर्देश दिए। साथ ही उन्होने बैंकों द्वारा जारी किये गये रूपे कार्डो का वितरण तथा एक्टीवेशन सुनिश्चित करने को कहा।
जिला कलक्टर ने बैंकों को अपने बी.सी. को प्रत्येक माह की 5 से 15 तारीख तक अटल सेवा केन्द्र पर उपस्थित रहकर सभी प्रकार के भुगतान करने के निर्देश दिए। उन्होने 21 जून को जिला मुख्यालय, ब्लॉक मुख्यालयों एवं ग्राम पंचायत मुख्यालयों पर आयोजित किये जाने वाले अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस कार्यक्रम में अधिकाघिक संख्या में उपस्थित होने के निर्देश दिए।
इस अवसर पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल. नेहरा ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान सरकार की फ्लैगशीप योजना है। बैंकों द्वारा पचास हजार से अधिक राशि का ऋण लेने वाले व्यक्तियों से स्वयं के घर में शौचालय निर्माण कराने तथा उसको उपयोग में लेने संबंधी उद्घोषणा का प्रपत्र लिया जाए। इससे आम जन में स्वच्छता के प्रति जागरूकता में बढोतरी होगी।
बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक के एजीएम बी.एल. बैरवा ने सरकार द्वारा प्रायोजित विभिन्न योजनाओं को गम्भीरता से लेने तथा आवंटित लक्ष्यों की शत प्रतिशत उपलब्धि अर्जित करने के निर्देश दिए। उन्होने कहा कि गरीब तबके के आर्थिक उत्थान के लिए संचालित इन योजनाओं में सकारात्मक सोच के साथ कार्य कर प्रगति लाई जाए। उन्होने निर्धारित 60 प्रतिशत से कम साख जमा अनुपात वाले बैंकों से आगामी त्रैमाही तक प्रगति लाने को कहा। उन्होने कहा कि वर्तमान युग सूचना प्रौद्योगिका का है, ऐसे में सूचनाएं अपडेट एवं समय पर भेजा जाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होने बताया कि रूपे कार्ड का एक्टीवेशन सरकार की प्राथमिकता है और इस कार्य को सभी बैंकर्स प्राथमिकता से पूर्ण करें।
बैठक में नाबार्ड के जिला प्रबन्धक माणकचन्द रैगर ने वर्ष 2017-18 की प्री पीएलपी के बारे में विस्तार के साथ जानकारी कराई। वहीं एसबीबीजे के एजीएम रमेश चन्द्र नायक ने सभी बैंकों को अपने बी.सी. को प्रभावी बनाने तथा उनके माध्यम से अधिकाधिक रूपे कार्ड एक्टीव कराने को कहा।
इससे पूर्व कार्यवाहक अग्रणी बैंक अधिकारी जे.पी. सिंघल ने बैठक का एजेन्डा प्रस्तुत किया। उन्होंने सभी बैंकों की कुल जमाओं, अग्रिमों, साख जमा अनुपात, मुख्य व्यवसायिक मानदण्ड, वार्षिक साख योजना, सरकार द्वारा प्रायोजित विभिन्न ऋण योजनाओं की प्रगति आदि की विस्तार के साथ जानकारी कराई। उन्होने बताया कि वर्ष 2015-16 की समाप्त तिमाही के अन्त में जिले की सभी बैंकों की कुल जमाए 506720.51लाख, अग्रिम 452713.53 लाख तथा साख जमा अनुपात 89.34 प्रतिशत रहा है।
इस अवसर पर एसबीबीजे आरसेटी के 7 वें वार्षिक प्रतिवेदन 2015-16 की पुस्तिक का विमोचन भी किया गया। बैठक में जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबन्धक धनश्याम गुप्ता, महिला अधिकारिता विभाग के कार्यक्रम अधिकारी अशोक गोयल समेत जिले की सभी वाणिज्यिक तथा ग्रामीण बैंकों के नोडल अधिकारी तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top