बाड़मेर बैंकर्स निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति सुनिश्चित करेंः शर्मा
बाड़मेर।
बैंकर्स निर्धारित लक्ष्यों की प्राप्ति सुनिश्चित करें। इसमें किसी तरह की कौताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। निर्धारित लक्ष्यां के अनुरूप लाभार्थियां को ऋण उपलब्ध कराया जाए। उदासीनता बरतने वाले बैंकां के खिलाफ कार्रवाई के लिए उच्च प्रबंधन एवं वित मंत्रालय को अवगत कराया जाएगा। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट कांफ्रेस हाल में जिला स्तरीय साख समिति की बैठक के दौरान यह बात कही।
जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने विभिन्न ऋण योजनाआें की वर्ष 2015-16 की प्रगति की समीक्षा करते हुए जिला अग्रणी बैंक अधिकारी को निर्देश दिए कि जिन बैंकां ने लक्ष्य के अनुरूप ऋण स्वीकृत नहीं किए अथवा बैंकां में अनुपस्थित रहने के साथ समय पर सूचनाएं नहीं भिजवाते है, उनके खिलाफ रीजनल हैड एवं वित मंत्रालय को अवगत कराए। जिला कलक्टर शर्मा ने इस दौरान संबंधित बैंक अधिकारियां को विभिन्न ऋण योजनाआें में लंबित आवेदनां को वर्ष 2016-17 के लक्ष्यां के विरूद्ध स्वीकृति प्रदान कर जून 2016 तक वितरित करने के निर्देश दिए। इस दौरान जिला अग्रणी बैंक अधिकारी बिशनाराम बाकोलिया ने वर्ष 2015-16 में दिसंबर 2015 को समाप्त तिमाही के अंत में प्रमुख बैकिंग आंकड़ां के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्हांने बताया कि जिले में सभी बैंकां की कुल जमाएं 468906.5 लाख है। इसमें पिछले वर्ष की अपेक्षा 98057.5 लाख की बढोतरी हुई है। उन्हांने अग्रिम राशि, साख जमा अनुपात के साथ मुख्य व्यवसायिक मानदंड संबंधित जानकारी दी। बाकोलिया ने बताया कि वर्ष 2015-16 की दिसंबर माह की तिमाही की समाप्ति पर बैंकां ने 2015-16 की बाड़मेर जिले की वार्षिक साख योजना की 94.69 प्रतिशत उपलब्धि हासिल की गई है जो संतोषप्रद है। उन्हांने एनयूएलएम, ग्रामीण एवं शहरी पोप योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना, भामाशाह रोजगार सृजन योजना के तहत आवंटित किए ऋण के बारे में जानकारी दी। इस दौरान जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक घनश्याम गुप्ता ने बताया कि भामाशाह रोजगार सृजन योजना एवं प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना में ऋण आवंटित करने की समस्त प्रक्रिया अब आनलाइन हो गई है। इसके लिए आवेदन भी अब आनलाइन लिए जाएंगे। आरसेटी प्रबंधक ने बताया कि महात्मा गांधी नरेगा योजनान्तर्गत 100 दिवस का रोजगार प्राप्त करने वाले लोगां को स्वरोजगार के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है। उन्हांने समस्त बैंकर्स से प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले लोगां को ऋण उपलब्ध कराने के लिए कहा, ताकि ये लोग स्वरोजगार से जुड़ सके। बैठक के दौरान सहायक निदेशक आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग हीरालाल मालू ने कहा कि बैंकर्स न्याय आपके द्वार अभियान के दौरान आयोजित हो रहे शिविरां में रूपे कार्ड वितरण के साथ उसके एक्टिवेशन का कार्य भी संपादित करें। इस बैठक में अनुसूचित जाति निगम के प्रबंधक ताराचंद चौहान समेत विभिन्न बैंक अधिकारी उपस्थित रहे।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top