फकीरा खां बिशाला शान ऐ राजस्थान अवार्ड 2016 से सम्मानित 
महामहिम राज्यपाल कल्याण सिंह द्वारा सम्मानित
बाड़मेर 
बाड़मेर जी राजस्थान न्यूज की और से आयोजित 2016 का शान ऐ राजस्थान अवार्ड राज्यपाल कल्याण सिंह महिला आयोग की अध्यक्ष सुमन शर्मा और राजस्थान झारखण्ड के चैनल हेड कि पुरूषोतम वैष्णव द्वारा होटल मेरिट जयपुर में अन्तराष्ट्रीय ख्याति नाम लोक कलाकार फकीराखां बिषाला के लोक संगीत के क्षेत्र में विदेषों में प्रदर्षन करने के सराहीन कार्य हेतु दिया गया। इसके साथ शास्त्री संगीत मोहन विणा वादक ए. गरेमी एवार्ड और पदमश्री पंडित विष्व मोहन भट्ट और पदम श्री गुलाबों सफेरा को लोक नृत्य में दिया गया फकीरा खां ने नई पीढी को षिक्षा से जोड़ने और लोककला का प्रषिक्षण दिलवाने व नया मंच दिलाने के साथ थियेटर जिंगारो पेरिस के द्वारा 1993 से 1995 तक 590 से ज्यादा युरोप के शहरों में अपनी कला प्रदर्षित कर रिकार्ड कायम किया। फ्रांस सरकार द्वारा सम्मानित-1992 में अन्तर्राष्टीय फिल्म फेस्टिवल, बाल-युवा कलाकारों के साथ उदयपुर में श्रीमति जया बच्चन गुलजार साहब-भुपैन हजारिका द्वारा सम्मानित 1995 में ब्रोकलीन अकादमी ऑफ म्युजियम न्यूर्याक में 100 से ज्यादा प्रोग्राम करने पर सम्मानित-वाषिंगटन डी.सी. में सोनियन म्यूजियम एवं कैनाड़ी सेन्टर में प्रस्तुती देने पर सम्मानित हैं दलित साहित्य एकादमी की और से आयोजित ताल कटोरा में पूर्व अध्यक्ष और अटल बिहारी द्वारा डॉ. अम्बेडकर फेलोसिफ से सम्मानित 1999-2000 में और जिला प्रषासन द्वारा 1998-2008-2015 को तीन बार जिला प्रषासन गणतंत्र दिवस समारोह परेड ग्रांउड राष्ट्रपति भवन से इंडिया गेट तक कार्यक्रम में 1991-92 व 2001-02-2003 पांच बार सम्मान पत्र प्राप्त कर समानित राजस्थान-सरकार द्वारा 2008 में महामहिम राज्यपाल के.एस.सिंह द्वारा व माननीय मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे द्वारा सम्मानित राष्ट्रीय संगीत नाटक एकेडमी से नेषनल ऐवार्ड 2012 में सम्मानित और गोवा फेस्टीवल 2007 में मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित और दिनांक 3.2.2016 में आयोजित लोक उत्सव में रिदम ऑफ राजस्थान की और से कोमलदा उत्कृष्ठ लोक कलाकार पुरस्कार द्वारा सम्मानित और वर्ड, सुफी फेस्टीवल जोरडन में आयोजित राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित इसके अलावा कई आई ए.एस आई.पी.एस., प्रमुख शासन सचिव, सचिव और कलचर सेन्टर संस्थाओं से सम्मानित हो चुके है। इसके साथ समाज सेवा में राजस्थान मिराजी छात्रावास का निर्माण में आर्थिक सहायता एवं लोक कलाकार भवन हेतू भूमि दान देने और गांव से लाकर बच्चों का संगीत के साथ षिक्षा से जोड़ने का काम 20 सालों से कर रहे है बसरा खां पारम्परिक लोक सुफी संगीत एवं प्रषिक्षण संस्थान की और बच्चों को पारम्परिक लोक संगीत एवं लोक वाद्य सिखाने का काम कर रहे। और उसके साथ प्रदेष मुस्लिम मिरासी ढाढी, लंगा, दमामी, महागुणीयार, कंचन मीर समाज सुधार संस्था के अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष है। फिल्मों में अपनी म्यूजिक दे चुके है। नायक, लगान, मिस्टर रोमियो, लम्हे, रूधाली, ऐ आर रहमान के साथ, सलीम अन्ट्राटिक, ईला आरूण, कैलाष खेर, मलकीत सिंह, किरण अहुवालिया के साथ अपनी लोक कला का प्रदर्षन कर चुके है। शास्त्रीय संगीत के पंडित भीमसेन जोषी तबला वादक, राजन साजन मिश्रा, जाकिर हुसैन, फजल कुरैषी, विष्व मोहन भट्ट, रविषंकर, उस्ताद षिव कुमार शर्मा, हरीष प्रसाद सोरसिया, वडाली ब्रदर्स, पूर्णचंद प्यारेलाल, उस्मान मीर, किर्तीदान गढवी,रामनारायण, जैसी महान हस्तियों के साथ अपनी कला का प्रदर्षन एवं मेहंदी हसन साहब, गुलाम अली, नुसरत फतेह अली खान, साबरी ब्रादर्स, आबिदा प्रवीण, सलामत निजाकत अली खान के साथ विदेषों में अपनी प्रस्तुती साथ में दी और वर्ड के फैम्स थियेटर थादुला विल पैरिस, कैनेडी सेन्टर वाषिंगटन, डीसी और एसकोर्ट हॉल टोरन्टो, कारनेकी हॉल न्यूयार्क, ओल्ड टाउन हॉल षिकागो, एल. ए.का ऑपन थियेटर, क्यून एलिथाबेथ हॉल हांगकांग, थियेटर ऑफ जिंगारो पेरिस एवं वर्ड के कई ऐसे थियेटरों में अपने लोक कला एवं लोक वादन की प्रस्तुतीया दे चुके है एवं सान ए राजस्थान अवार्ड लेकर बाड़मेर पहुंचने पर कलाकार कॉलोनी में समाज के वरिष्ठ लोगों व अन्य संस्थाओं, गणमान्य लोगों द्वारा स्वागत किया गया।

2 comments:

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top