बाड़मेर नगरपरिषद का मास्टरमाइंड अशोक शर्मा 2 मार्च तक रिमांड पर
बाड़मेर।
राजस्थान के बाड़मेर नगर परिषद में नए बोर्ड बनने के कुछ माह बाद ही एक नहीं दो नहीं करीब आधा दर्जन कर्मचारी जेल की हवा खा चुके है इसी कड़ी में दो दिन पहले यानि बुधवार को अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक विपिन शर्मा ने सात माह पूर्व कॉग्रेस के पूर्व पार्षद दमाराम माली के मंगलम टॉवर की मूल पत्रावली गायब करने के दर्ज मामले में मामले के मास्टरमाइंड यानि सहायक राजस्व निरीक्षक अशोक शर्मा को गिरफ्तार किया था। और गुरूवार को कोर्ट में पेश किया गया, कोर्ट ने 2 मार्च तक पुलिस रिमांड  भेज दिया और जहा फर्जी पट्टा प्रकरण में अब तक नगर परिषद के आधा दर्जन आरोपियों की गिरफ्तार हो चुकी है। 
दरअसल, 18 अगस्त 2015 को तत्कालीन आयुक्त जोधाराम विश्नोई ने पत्रावली संख्या 151/2011-12 को चोरी करने का मामला दर्ज करवाया था। रिपोर्ट के अनुसार दमाराम पुत्र मंगलाराम परमार के मंगलम टॉवर निर्माण की स्वीकृति पत्रावली नगर परिषद में नहीं मिली। इस पर आयुक्त ने पूर्व पार्षद दमाराम माली चंद्रजीत खत्री के खिलाफ मामला दर्ज करवाया था।
एफएसएल रिपोर्ट में हुआ खुलासा
मंगलम टॉवर की पत्रावली को गायब करने अशोक शर्मा और सुरेंद्र माथुर पर आरोप था। इस पर पुलिस ने दोनों के हस्ताक्षर की नमूनों की एफएसएल करवाई थी। जोधपुर से जांच रिपोर्ट आने पर अशोक शर्मा के हस्ताक्षर की पुष्टि हुई। इस पर बाड़मेर एएसपी विपिन शर्मा ने सहायक निरीक्षक अशोक शर्मा को गिरफ्तार किया है। फाइल के हस्तांतरण को लेकर सुरेंद्र माथुर और अशोक शर्मा के बीच पेच अटका हुआ था। अब हस्ताक्षर की पुष्टि होने पर अशोक शर्मा की गिरफ्तारी की गई है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top