शिक्षा की महत्ता को समझने की जरूरतः मेघवाल
मेघवाल शैक्षणिक एवं शोध संस्थान के वार्षिक सम्मेलन मंे प्रतिभाआंे को नवाजा। बालिका षिक्षा के लिए जिला स्तर पर हुआ छात्रावास का उदघाटन।
बाड़मेर।
मौजूदा प्रतिस्पद्र्वा के दौर मंे मेघवाल समाज को शिक्षा की महत्ता को समझना होगा। बालिका शिक्षा के लिए छात्रावास की शुरूआत सराहनीय पहल है। प्रतिभाआंे को लक्ष्य निर्धारित करके उसकी प्राप्ति के लिए प्रयास करने चाहिए। यह बात बाड़मेर जिला प्रमुख श्रीमती प्रियंका मेघवाल ने रविवार को मेघवाल समाज शैक्षणिक एवं शोध संस्थान के वार्षिक अधिवेशन, बालिका छात्रावास के उदघाटन एवं प्रतिभा सम्मान समारोह के दौरान कही।
जिला प्रमुख मेघवाल ने कहा कि समाज के विकास के साथ हर क्षेत्र मंे महिलाआंे की भागीदारी बढ़ाने की जरूरत है। उन्हांेने कहा कि सेवानिवृत कार्मिकांे से शिक्षा के क्षेत्र मंे सहयोग की अपील करते हुए कहा कि वे समाज की प्रतिभाआंे को नई दिशा देने मंे महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते है। जैसलमेर जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल ने कहा कि मेघवाल समाज बाबा साहेब के आदर्शाें को आत्मसात करें। उन्हांेने कहा कि निजीकरण की आड़ मंे आरक्षण को समाप्त करना बेहद चिंतनीय विषय है। उन्हांेने बालिका छात्रावास के उदघाटन को अपने पति स्वर्गीय तनेराम मेघवाल का सपना बताते हुए कहा कि वे सदैव समाज के विकास के लिए तत्पर रहते थे। अध्यक्षीय उदबोधन मंे चैहटन विधायक तरूण राय कागा ने कहा कि मेघवाल समाज ने हर क्षेत्र मंे प्रगति की है। आज समाज की प्रतिभाएं हर क्षेत्र मंे अपनी प्रतिभा दिखा रही है। उन्हांेने कहा कि महिला शिक्षा के लिए सबको मिलकर प्रयास करने चाहिए। कागा ने सामाजिक विकास के लिए यथासंभव योगदान का भरोसा दिलाया।
विशिष्ट अतिथि रूपाराम मेघवाल ने कहा कि समाज के विकास एवं उत्थान मंे अधिकाधिक लोगांे को भागीदारी सुनिश्चित की जानी चाहिए। शिक्षा के साथ लक्ष्य निर्धारित किया जाए। उन्हांेने कहा कि आर्थिक लिहाज से गरीब परिवारांे के प्रतिभावान बच्चांे को गोद लेकर उनको उच्च शिक्षा दिलाने के लिए समाज के आर्थिक लिहाज से सुदृढ़ लोगांे को आगे आना चाहिए।
विशिष्ट अतिथि सेड़वा प्रधान पदमाराम मेघवाल ने कहा कि समाज के विकास मंे प्रत्येक व्यक्ति अपनी भागीदारी तय करें। प्रत्येक व्यक्ति अगर समाज के विकास मंे योगदान देगा तो समाज का सर्वागीण विकास होगा। उन्हांेने प्रतिभाआंे को प्रोत्साहित करने की जरूरत जताई।
विशिष्ट अतिथि गडरारोड़ प्रधान तेजाराम कोडेचा ने कहा कि शिक्षा के साथ बालिका शिक्षा पर विशेष जोर दिया जाए। बालिका शिक्षित होने से दो पीढि़यांे का सुधार होता है। उन्होंने सामाजिक समरसता पर जोर देते हुए कहा कि प्रतिस्पर्धा के युग मंे सब क्षेत्रांे मंे भागीदारी सुनिश्चित करने की जरूरत है।
धनाउ प्रघान सुश्री भगवती ने आने वाली पीढ़ी को मुख्य धारा से जोड़ने एवं बालिका शिक्षा को मौजूदा समय की जरूरत बताया। उन्हांेने कहा कि मेघवाल समाज को शिक्षा के क्षेत्र मंे विशेष प्रयास करने चाहिए। जिला कोषाधिकारी जसराज चैहान ने कहा कि युवा लक्ष्य बनाकर मेहनत करें। सरकारी क्षेत्र मंे रोजगार के अवसर कम हो रहे है। ऐसे मंे निजी क्षेत्र मंे भी व्यापक रोजगार के अवसर प्राप्त करने के लिए प्रयास करें। आरपीएस सुनील पंवार ने कहा कि इस तरह के आयोजनांे से प्रतिभाएं प्रोत्साहित होती है। उन्हांेने युवाआंे से भविष्य के लिए लक्ष्य तय कर उसके अनुरूप प्रयास करने को कहा। समारोह के दौरान संस्थान अध्यक्ष डा.बी.एल.मंसूरिया ने कहा कि संस्थान ने अपने कार्यकाल के दौरान कई कीर्तिमान स्थापित किए है। यहां अध्ययनरत प्रतिभाआंे को कई क्षेत्रांे मंे चयन हुआ है। उन्हांेने संस्थान की गतिविधियांे पर विस्तार से प्रकाश डालते हुए अतिथियांे का आभार जताया।
इस अवसर पर रूपाराम नामा ने मेघवाल समाज के इतिहास पर प्रकाश डालते हुए कहा कि अपने इतिहास को पहचानने की जरूरत है। उन्हांेने युवा पीढ़ी से समाज को नई दिषा देने का आहवान किया। हजारीराम बालवा ने मेघवाल समाज शैक्षणिक एवं शोध संस्थान की विभिन्न गतिविधियांे पर हुए व्यय संबंधित लेखा-जोखा पेेश किया। रामचन्द्र गढवीर ने कहा कि आरक्षण संवैधानिक अधिकार के रूप मंे मिला है। लेकिन नीजिकरण की आड़ मंे इस संवैधानिक अधिकार से वंचित रखा जा रहा है। उन्हांेने इसके लिए समन्वित प्रयास करने एवं विषेषकर जन प्रतिनिधियांे से जागरूक होकर इस मामले को उच्च स्तर पर उठाने को कहा। आदूराम मेघवाल ने कहा कि समाज के विकास के लिए सबको मिलकर प्रयास करने होंगे। उन्हांेने कहा कि समाज हर क्षेत्र मंे अलग पहचान कायम करें। उन्हांेने रेस का घोड़ा बनने का आहवान करते हुए कहा कि सरकार मंे भागीदारी निभाने वालांे को समाज के विकास के लिए यथासंभव प्रयास करने चाहिए। शिव पंचायत समिति के पूर्व प्रधान उदाराम मेघवाल ने कहा कि सब लोग अपना दायित्व समझते हुए समाज के उत्थान के लिए प्रयास करें। समाज के सामने आ रही चुनौतियांे का मुकाबला करने के लिए संगठित होने की जरूरत है। कार्यक्रम का संचालन चूनाराम पूनड़ ने किया। इस दौरान पूर्व प्रधान बाड़मेर पंचायत समिति श्रीमती धाई देवी के साथ विभिन्न जन प्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। इससे पहले अतिथियांे ने बालिका छात्रावास का फीता काटकर उदघाटन किया।
भामाषाहांे का सम्मानः समारोह के दौरान डा.दिनेश परमार, डा.राहुल बम्मानिया, रूपाराम धनदे,उदाराम मेघवाल, केसराराम बालवा रतनोणियो परिवार समेत कई भामाशाहांे ने छात्रावास मंे कमरा निर्माण एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की घोषणा की। इन भामाशाहांे का साफा पहनाकर सम्मान किया गया।
प्रतिभाआंे को नवाजाः वार्षिक अधिवेशन के दौरान मेघवाल समाज के प्रतिभावान विद्यार्थियांे को प्रशस्ति पत्र एवं नकद राशि देकर सम्मानित किया गया। इस दौरान तनेराम स्मृति पुरस्कार से भी प्रतिभाआंे को नवाजा गया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top