ऑन लाइन जुए से बिगड़ रहे "लाडले"
बाड़मेर। 
मोबाइल पर इंटरनेट की रफ्तार के इस युग में अपने लाडले पर नजर रखें। इंटरनेट पर आए गेम एप्स से आपके सुनहरे सपने बिगड़ सकते हंै। ऑन लाइन खेल की बुरी लत जुए तक पहुंच सकती है। 
online betting affecting childrenमोबाइल पर ऑन लाइन "तीन पत्ती" युवाओं में खासा लोकप्रिय हो रहा है। यह एप सट्टे के माफिक ही है। हालांकि इस खेल में सीधा आर्थिक नुकसान तो नहीं हो रहा, लेकिन खेलने वाले को समय की सुध नहीं रहती। 
यह है तीन पत्ती। तीन पत्ती ऑन लाइन काड्üस गेम एप्लीकेशन है। इसके माध्यम से युवा सोशल साइट पर जुड़े दोस्तों के साथ ऑन लाइन खेल सकता है।
इसे डाउनलोड करने के बाद यूजर अपने नाम से रजिस्ट्रेशन करवाता है। इसके बाद गेम शुरू हो जाता है। एप्लीकेशन में दो तरह से खेलने की सुविधा है। पब्लिक रूम ऑप्शन चूज करने के बाद यूजर के उस समय ऑन लाइन पांच दोस्त ऑन लाइन खेल सकते हैं। 
प्राइवेट रूम में यूजर का ऑन लाइन दोस्त खेलने के लिए रिकवेस्ट भेजता है। इसमें शर्त लगाकर जुआ भी खेला जा सकता है।
तीन पत्ती एप्लीकेशन भारत समेत अन्य देशों में फ्लैश नाम से प्रसिद्ध है। देश के कई हिस्सों में इसे तीन पत्ती के नाम से जानते हंै। इसमें यूजर्स पाइंट्स में हिस्सा बांटते है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top