शत-प्रतिशत मतदान का लक्ष्य, आचार संहिता की सख्ती से पालना हो : जैन 
जयपुर।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी अशोक जैन ने उप जिला निर्वाचन अधिकारियों (एडीएम) को चुनाव कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देने तथा इसे पूरी गंभीरता से लेते हुए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देशों की सख्ती से पालना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने मतदान जागरुकता के लिए स्वीप कार्यक्रम के प्रभावी क्रियान्वयन पर जोर देते हुए कहा कि इस बार हमारा लक्ष्य शत-प्रतिशत मतदान का रहेगा।
जैन आज यहां शासन सचिवालय के कॉन्फ्रेंस हॉल में निर्वाचन विभाग की ओर से आयोजित उप जिला निर्वाचन अधिकारियों के दो दिवसीय रिफ्रेशर कोर्स के शुभारंभ अवसर पर विचार प्रकट कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यद्यपि आप सभी अधिकारी अनेक बार चुनाव सम्पन्न करवा चुके हैं फिर भी अपने आप को एकदम नया मानते हुए चुनाव प्रक्रिया के हर पहलू को गंभीरता से समझें तथा दिशा-निर्देशों का पूर्ण संवेदनशीलता से अध्ययन करें ताकि लोकसभा चुनाव स्वतंत्र, निष्पक्ष और शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हो सके।
उन्होंने कहा कि जल्द लोकसभा चुनाव की घोषणा के मद्देनजर अधिकारी चाक-चौबंद होकर कर्तव्यों की पालना के लिए तत्पर रहें। चुनाव घोषणा के साथ ही आदर्श आचार संहिता प्रभावी हो जाएगी जिसकी सख्ती से पालना करवाना हम सबका दायित्व रहेगा। उन्होंने कहा कि आचार संहिता के उल्लंघन के विरूद्घ कार्यवाही में कोई भी कोताही नहीं बरती जाए, मामला छोटा हो या बड़ा उस पर अविलंब केस दर्ज करवाया जाए।
उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि चुनाव घोषणा के साथ ही सभी जिलों में उडऩदस्ते एवं निगरानी दल कार्य करना शुरू कर दें। उन्होंने कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान आने वाले राजनीतिक दलों द्वारा आयोजित सभाओं में आने वाले महत्वपूर्ण एवं अतिमहत्वपूर्ण प्रचारकों की वीडियोग्राफी करवाने के साथ ही उसी दिन उनके भाषण की ट्रांसस्क्रिप्ट तैयार करवाकर निर्वाचन विभाग को भिजवाएं।
जैन ने कहा कि मतदाता जागरुकता के लिए शत-प्रतिशत मतदाता फोटो पहचान पत्र का वितरण सुनिश्चित हो, फोटो मतदाता पर्चियां मतदाता तक पहुंचाने के लिए प्रभावी प्रक्रिया अपनाएं, इसमें किसी भी तरह की कोताही होने पर नियमानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।
उन्होंने निर्देश दिए कि मतदान केंद्रों का शत-प्रतिशत सर्वे करवाते हुए वहां आयोग के दिशा-निर्देशों के अनुसार आधारभूत सुविधाएं सुनिश्चित करवाएं। उन्होंने यह भी कहा कि उप जिला निर्वाचन अधिकारी चुनाव के संदर्भ में दी जाने वाली सूचनाओं को प्रेषित करने के प्रति गंभीर रहें तथा नियमित रूप से ऑलनाइन अपडेशन भी किया जाए। उन्होंने चुनाव कार्य को लेकर आने वाली शिकायतों के प्रभावी निस्तारण के लिए शिकायत प्रकोष्ठ को सुदृढ़ बनाने के निर्देश दिए।
जैन ने पेड न्यूज मामले को गंभीरता से लेते हुए निर्देश दिए कि मीडिया में आने वाली खबरों की कड़ी मॉनिटरिंग की जाए। पिछले विधानसभा चुनाव में अनेक जिलों ने पेड न्यूज को लेकर शून्य रिर्पोट दर्शाई, जिससे ऐसा प्रतीत हुआ कि वहां पेड न्यूज के कोई भी मामले दर्ज नहीं किए गए। ऐसे मामलों में यदि कोई प्रकरण संदेह की परिधि में आता हो तो उसकी भी रिपोर्ट की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि चुनाव के लिए प्रशिक्षण, वेबकास्टिंग तथा कानून व्यवस्था के उचित संधारण के लिए आवश्यक मानव संसाधन जुटाने, माइक्रो ऑब्जर्वर की नियुक्ति, चुनाव खर्च पर निगाह रखने के लिए आवश्यक स्टाफ की व्यवस्था अभी से पूर्ण कर लें।
रिफ्रेशर कोर्स में संयुक्त निर्वाचन अधिकारी पी.सी. गुप्ता, विशेषाधिकारी एच.एच.गोयल ने भी अधिकारियों को संबोधित किया। निर्वाचन विभाग के सलाहकार आर.के पारीक ने चुनाव की अधिसूचना, नामांकन, संवीक्षा, नाम वापसी तथा उम्मीदवारों की अंतिम सूची तैयार करने और चुनाव चिन्ह आवंटन के संदर्भ में अपना प्रस्तुतीकरण दिया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top