पोकरण सीएचसी में सोनोग्राफी मशीन का लोकार्पण किया
जैसलमेर, 31 दिसंबर/
परिवार कल्याण, आयुर्वेद एवं चिकित्सा शिक्षा राज्यमंत्री डॉ.राजकुमार शर्मा ने स्वस्थ व्यक्ति को स्वस्थ प्रदेश की जान बताते हुए लोगों से सेहत सँवारने पर पर्याप्त ध्यान देने का आह्वान किया है और कहा है कि राज्य सरकार ने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में जो योजनाएं और कार्यक्रम लागू किए हैं उनका लाभ सभी जरूरतमन्दों तक पहुंचाने के लिए प्रभावी भूमिका का निर्वहन करें।चिकित्सा राज्यमंत्री ने सोमवार को पोकरण के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में नवस्थापित सोनोग्राफी मशीन के लोकार्पण समारोह में उपस्थितजनोें को संबोधित करते हुए यह आह्वान किया।
चिकित्सा राज्यमंत्री ने अस्पताल में फीता काटकर सोनाग्राफी कक्ष का उद्घाटन किया और सोनोग्राफी मशीन का संचालन आरंभ कर इसका लोकार्पण किया।इस अवसर पर आयोजित समारोह में मुख्य अतिथि चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. राजकुमार शर्मा,जैसलमेर के जिला प्रमुख अब्दुला फकीर, पोकरण विधायक शाले मोहम्मद, सांकड़ा पंचायत समिति के प्रधान वहीदुल्ला मेहर, पोकरण नगरपालिकाध्यक्ष छोटेश्वरी देवी, पूर्व अध्यक्ष आनंदीलाल, समाजसेवी पं. बलदेव जोशी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आनंदगोपाल पुरोहित, गिरीश पारीक आदि अतिथियों के रूप में उपस्थित थे।

जरूरतमन्दों की सेवा की ऎतिहासिक योजनाएं
समारोह को संबोधित करते हुए चिकित्सा राज्यमंत्री डॉ. राजकुमार शर्मा ने राजस्थान में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाओें की आम जन तक पहुंच को बेहतर बनाने और जरूरतमन्दों की सेवा के सरोेकारों भरी गतिविधियों पर विस्तार से जानकारी दी और कहा कि इतिहास में पहली बार गरीबों और जरूरतमन्दों के लिए बुनियादी लोक सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए इतनी सारी योजनाओं का सूत्रपात किया जा रहा है। उन्होंने इनका ग्राम्यांचलों में व्यापक प्रचार-प्रसार करने और इनका लाभ लोगों तक पहुंचाने का आह्वान किया।
चिकित्सा राज्यमंत्री ने निःशुल्क दवा योजना का जिक्र किया और कहा कि आगामी सात अप्रेल से प्रदेश में जांचों का काम भी निःशुल्क होने लगेगा।उन्होंने पोकरण अस्पताल को 75 से बढ़ाकर एक सौ शैय्याओं वाला करने की बात कही और जानकारी दी कि अस्पताल से जुड़ी हुई जो भी समस्याएं हैं उनका निराकरण जल्द ही कर दिया जाएगा।

चिकित्साकर्मियों की कमी जल्द पूरी होगी
डॉ. शर्मा ने बताया कि प्रदेश सरकार चिकित्सा स्टाफ की कमी को दूर करने के लिए दो महीने में 25 हजार पेरा मेडिकल स्टाफ भर्ती करने की कार्यवाही करने जा रही है। इनमें 10-10 हजार पद एएनएम एवं जीएनएम के होंगे। जबकि पांच हजार पद सहयोगी स्टाफ से संबंधित होंगे। इस भर्ती के बाद राजस्थान में एक भी उप केन्द्र ऎसा नहीं होगा जहां एएनएम नहीं होगी। सभी रिक्त स्थानों की पूर्ति के प्रयास किए जा रहे हैं और ईलाज के अभाव में किसी को भी, कहीं भी मरने नहीं दिया जाएगा। डॉक्टरों की कमी का दूर करने के लिए सरकार के सभी संभव प्रयासों का जिक्र करते हुए उन्होंने बताय कि जहां कहीं रिटायर्ड डॉक्टर उपलब्ध हैं उन्हेंं मासिक 60 हजार रुपए पारिश्रमिक पर लगाये जाने के आदेश हैं।

उन्हाेंंने कहा कि राजस्थान में सरकार पीपीपी मॉडल के आधार पर आने वाले दो माह में4-5 मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं।

मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में साठ फीसदी गिरावट

उन्होंने कहा कि प्रदेश में सरकार की जननी शिशु सुरक्षा योजना खूब कारगर सिद्ध हुई है और इस वजह से राज्य में मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में साठ फीसदी की कमी आयी है। उन्होंने जानकारी दी कि सरकार उन सभी गांवों में उप केन्द्रों की स्थापना करेगी जहां अभी नहीं हैं। इन उपकेन्द्रों के भवन निर्माण के लिए स्वीकृति के साथ ही पन्द्रह-पन्द्रह लाख रुपए की धनराशि दी जाएगी। उन्होंने भ्रष्टाचार निवारण तथा बेटियों को बचाने के लिए पूरे मन से काम करने तथा स्वस्थ एवं निर्मल सोच के साथ आगे आने पर जोर दिया।

इस अवसर पर पोकरण विधायक शाले मोहम्मद ने चिकित्सा राज्य मंत्री का स्वागत करते हुए पोकरण क्षेत्र में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए ज्यादा से ज्यादा काम किए जाने की जरूरत बतायीं।

जिलाप्रमुख अब्दुला फकीर ने सरकार की स्वास्थ्य योजनाओं को आम आदमी के लिए वरदान बताया जबकि प्रधान वहीदुल्ला मेहर एवं अन्य वक्ताओं ने सरकारी योजनाओं का पोकरण क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा लाभ पहुंचाने पर जोर दिया। संचालन रामेश्वर शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आनंद गोपाल पुरोहित ने किया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top