अहिंसा मानवता के कल्याण का सर्वाेतम वरदान:- साध्वीश्री पावनप्रभा
त्रि-दिवसीय अहिंसा अभियान का हुआ समापन , 
सैंकड़ों बच्चों ने पटाखें नही छोड़ने व ईको दीपावली मनाने का लिया संकल्प 
बाड़मेर
इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर की ओर से आयोजित त्रि-दिवसीय पटाखा बहिष्कार, ईको दीपावली व स्वदेशी अभियान का मंगलवार को समापन समारोह तेरापंथ भवन में साध्वीश्री पावनप्रभाश्री म.सा. आदि ठाणा की पावन निश्रा में आयोजित हुआ । समापन समारोह में जिला परिवहन अधिकारी घनश्यामदास मेघानी, यातायात प्रभारी आनन्दकुमार एवं शिक्षाविद् डाॅ. बंशीधर तातेड़ ने बतौर आतिथि शिरकत की । समारोह का आगाज युवा साथी गौतम बोथरा के मंगल भावना गीतिका से हुआ । तत्पश्चात इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर की ओर से अतिथियों का स्वागत-सम्मान किया गया । समारोह में तीन अहिंसा अभियान का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर के संयोजक मुकेश बोहरा अमन ने वर्ष 2008 से लगातार चल रहे अहिंसा अभियान की विस्तार से जानकारी देते हुए पटाखा बहिष्कार रैली, नेकी की दीवार, स्वदेशी अभियान के साथ-साथ मानवता के प्रति नेह भावना रखने और मानवता की निःस्वार्थ सेवा को ही इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस का परम लक्ष्य बताया । समारोह के अति-विशिष्ट अतिथि यातायात प्रभारी आनन्दकुमार ने अहिंसा अभियान की सहराना करते हुए बच्चों से सद्-नागरिक बनने का आह्वान किया और कहा कि हमें मनुष्यत्व के सभी गुणों को मिलाकर एक अच्छा इंसान बनना है । साथ ही कहा कि अहिंसा अभियान मात्र अभियान नही बल्कि यह एक आन्दोलन है जो जन जन को जोड़ने का काम कर रहा है । समारोह की अध्यक्षता कर रहे शिक्षाविद् डाॅ. बंशीधर तातेड़ ने अहिंसा अभियान को सर्वोतम अभियान बताते हुए भगवान महावीर स्वामी के जीओ और जीने दो के सिद्धान्त को साकार रूप देने की बात कहते हुए बच्चों को पटाखा नही फोड़ने का आह्वान किया । वहीं समारोह के मुख्य अतिथि जिला परिवहन अधिकारी घनश्यामदास मेघानी ने ईको दीपावली का संकल्प लेने वाले बच्चों को बधाई देते हुए अहिंसा अभियान को नेकी का कार्य बताया और कहा कि दुनिया में हिंसा का बोलबाला बढ़ रहा है ऐसे में इन खुशियों की रोशनी के दीपकों से जन जन के जीवन में नई उम्मीदें बढ़ती है । समारोह में इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर की ओर से गौरव बोहरा, गौरव मालू, आदित्य बांठिया, मोहित बोहरा, रूचिका सिंघवीं, भाविका बांठिया एवं पुनित छाजेड़ को प्रशस्ति प्रदान कर अहिंसा दूत के रूप में सम्मानित किया गया । समारोह में साध्वीश्री पावनप्रभाश्री म.सा. ने बच्चों को प्रवचन देते हुए कहा कि हमें भगवान महावीर की जीओ और जीने दो की भावना रखते हुए जीव हिंसा व प्रताड़ना से बचना चाहिए । वही साध्वीश्री ने बच्चों को पटाखे नही छोड़ने का संकल्प दिलाया । वहीं इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर जितेन्द्र बांठियां ने सभी अतिथियों, गणमान्य नागरिकों, माताओं-बहिनों का आभार व धन्यवाद ज्ञापित करते हुए जीवन में अहिंसा को धारण करने का आह्वान किया । समारोह का संचालन कुशल वक्ता कैलाश बोहरा ने किया ।
इस दौरान तेरापंथ धर्मसभा, बाड़मेर के अध्यक्ष रतनलाल दांती, जावेरीमल चैपड़ा, पारसमल गोलेच्छा, इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर के कैलाश बोहरा, जितेन्द्र बांठियां, नेमीचन्द छाजेड, गौतम बोथरा, सम्पतराज सिंघवीं, चन्द्रप्रकाश छाजेड, केवलचन्द छाजेड़, सुनिल छाजेड़, गौरव बोहरा, उदय गुरूजी, गौरव मालू, जोगेन्द्र वड़ेरा, दिनेश वड़ेरा, मोहित बोहरा सहित कई कार्यकर्तागण एवं जैन समाज के 300 से अधिक बच्चे उपस्थित रहे । 
सर्वोदय अहिंसा सम्मान से हुआ सम्मान 
समारोह के अतिथियों ने पिछले आठ वर्षों से जिले में बाड़मेर शहर सहित धोरीमन्ना, चैहटन, रामसर आदि स्थानों पर लगातार अहिंसा अभियान का आयोजन कर रहे जिला संयोजक मुकेश बोहरा अमन, सह-संयोजक कैलाश बोहरा, जितेन्द्र बांठिया, नेमीचन्द छाजेड़, गौतम बोथरा एवं चन्द्रप्रकाश छाजेड़़ को सर्वोदय अहिंसा सम्मान का प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया ।
कुम्भकार का हुआ सम्मान
संयोजक मुकेश बोहरा अमन ने बताया कि इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर की ओर से समापन समारोह में कुम्भकार भेराराम कुम्हार का अतिथियों ने प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मान किया । वहीं इंड़िया अगेंस्ट वॉयलेंस, बाड़मेर ने कुम्भकार से 3000 मिट्टी के दीपक खरीदकर स्वदेशी अपनाने का संदेश दिया वहीं कुम्भकार को रोजगार देने, चाईनीज लाईटों व दीपकों का बहिष्कार करने के साथ-साथ इन दीपकों का अहिंसा अभियान से जुड़े बच्चों में वितरण किया ।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top