बाड़मेर लोक अदालत में 10402 प्रकरणो का निस्तारण
बाड़मेर जिले में न्याय आपके द्वार अभियान के तहत आयोजित हो रहे लोक अदालत शिविरां में लंबित प्रकरणां का निस्तारण होने से आमजन को खासी राहत मिल रही है। बाड़मेर जिले की दो ग्राम पंचायतां को वाद मुक्त घोषित किया गया है। इस अभियान को लेकर आमजन में खासा उत्साह देखा जा रहा है।
बाड़मेर।
जिले में राजस्व लोक अदालत अभियान न्याय आपके द्वार को लेकर खासा उत्साह देखा जा रहा है। इस अभियान में कई महत्वपूर्ण लंबित प्रकरणां का निस्तारण होने से आमजन को खासी राहत मिली है। बाड़मेर में इस अभियान के तहत 10402 प्रकरणां का निस्तारण किया गया है।
बाड़मेर जिले में 9 मई से संचालित न्याय आपके द्वार अभियान के तहत 18 मई तक 108 ग्राम पंचायत मुख्यालयां पर आयोजित हुए लोक अदालत शिविरां में उपखंड अधिकारियां एवं तहसीलदारां ने 10402 प्रकरणां का निस्तारण किया। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा के मुताबिक उपखंड अधिकारी एवं सहायक कलेक्टर स्तर पर धारा 136 खाता दुरुस्ती के 615, विभाजन (धारा 53) में 9, खातेदारी घोषणा (धारा 88) में 4, नामान्तकरण अपील के 7, पत्थरगढ़ी के 2 समेत कुल 636 मामलों का निस्तारण किया गया। उन्हांने बताया कि इन शिविरां के दौरान तहसीलदार एवं नायब तहसीलदार स्तर पर नामातंकरण के 2924, खाता दुरुस्ती के 1262, खाता विभाजन के 467, नए राजस्व गांव के प्रस्ताव 4, सीमाज्ञान करने के 60, गैर खातेदारी से खातेदारी के 16, धारा 251 के8 , राजस्व नकलें 3654, धारा 91 आर एल आर एक्ट के 2 तथा विविध प्रार्थना पत्र एवं अन्य 1369 कुल 9766 मामलों का निस्तारण किया गया। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा के मुताबिक राज्य सरकार के निर्देशानुसार न्याय आपके द्वार अभियान के विभिन्न सरकारी योजनाआें की जानकारी दी जा रही है। साथ ही राजस्थान संपर्क पोर्टल पर दर्ज प्रकरणां को भी प्राथमिकता से निस्तारित करने के निर्देश संबंधित अधिकारियां को दिए गए है।
54 वर्ष बाद हरजीराम को जमीन का पुश्तैनी हकः 
पिछले 54 वर्ष से पुश्तैनी जमीन में अपना हक पाने के लिए संघर्ष कर रहे गोलिया गर्वा निवासी हरजीराम के लिए न्याय आपके द्वार अभियान वरदान साबित हुआ। हरजीराम की आंखां में खुशी के आंसू छलक पड़े जब उपखंड अधिकारी नाथूसिंह राठौड़ ने उसकी पुश्तैनी जमीन का डिक्री परचा जारी करने के साथ अमलदरामद करने के आदेश जारी किए। गुड़ामालानी तहसील के गोलिया गर्वा निवासी हरजीराम पुत्र समरथाराम के दादा अन्नाराम के चार में से तीन पुत्रां ने आपस में सांठ गांठ के जरिए अन्नाराम की गर्वा गोलिया गांव में स्थित खेत की 62 रकबा 99 बीघा 05 बिस्वा भूमि आपस में बांट ली। हरजी के पिता समरथा के नाम से किसी प्रकार की जमीन नहीं दी गई। हरजीराम ने अपने पिता के हिस्से की पुश्तैनी जमीन में हक पाने के लिए वर्ष 1962 में राजस्व वाद दायर कर पिता के हक की भूमि अपने नाम करने के लिए संघर्ष किया। समरथाराम का एक मात्र जाइंदा पुत्र होने के कारण हरजी 54 वर्ष तक अपने पिता की भूमि अपने चाचाआें से प्राप्त करने के लिए लगातार संघर्ष करता रहा।
माडूदेवी को 34 साल बाद खातेदारी अधिकारः 
राजस्व लोक अदालत न्याय आपके द्वार 2016 अभियान के दौरान ग्राम जांदुओं की नाडी ग्राम पंचायत हाथीतला की माडूदेवी पत्नी जगमालराम जाट को 34 साल बाद उसकी भूमि में खातेदारी अधिकार दिया गया। ग्राम पंचायत हाथीतला में आयोजित लोक अदालत में उपखंड अधिकारी हिम्मताराम मेहरा के समक्ष माडुदेवी पत्नी जगमालराम ने अपने पति के स्थान पर ग्राम जांदुओं की नाडी एवं मेहरानपुर के खसरा संख्या 86 एवं 26 में जोड़ने का आग्रह किया। तहसीलदार की जांच के बाद उक्त नामान्तरकरण को निरस्त कर पति जगमालराम के स्थान पर ग्राम जांदुओं की नाडी एवं मेहरामपुरा में माडूदेवी का नाम अंकित कर जमाबंदी की प्रति उसे उपलब्ध करवाई गई।
वाद मुक्त ग्राम पंचायतः 
न्याय आपके द्वार अभियान के दौरान सेड़वा उपखंड क्षेत्र की दो ग्राम पंचायतां को वाद मुक्त ग्राम पंचायत घोषित किया गया।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT © 2013-14. All Rights Reserved.
Top