रिफाइनरी को लेकर किसानों को भड़काया जा रहा' : कर्नल सोनाराम 

बाड़मेर
लीलाला में रिफाइनरी लगाए जाने की मांग को लेकर रिफाइनरी बचाओ संघर्ष समिति के तत्वावधान में कलेक्ट्रेट के सामने धरना मंगलवार को 15वें दिन भी जारी रहा। धरने पर मंगलवार बायतु विधायक कर्नल सोनाराम चौधरी ने भी शिरकत की और धरने को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ लोग किसानों को भड़काने का काम कर रहे है। जनप्रतिनिधियों व स्वार्थी लोगों की ओर से लोगों में भरम पैदा किया गया और गलत तथ्य प्रस्तुत किए जा रहे है। संघर्ष समिति की ओर से रिफाइनरी को लीलाला में लगाए जाने की मांग की जा रही है।उसमें पूरे जिले का हित है। इससे पिछड़ा एवं अभावग्रस्त जिले का विकास होगा। चौधरी ने कहा कि रिफाइनरी अगर लीलाला में स्थापित होगी तो बाड़मेर और बालोतरा दोनों क्षेत्रों का विकास होगा। वहीं पचपदरा में लगती है तो फायदा केवल बालोतरा व जोधपुर को होगा, बाड़मेर जिला विकास में पिछड़ जाएगा। बाड़मेर की भोली जनता के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। इसे बर्दाश्त नहीं होने दिया जाएगा। रिफाइनरी बचाओ संघर्ष समिति की ओर से धरना-प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा जब तक सरकार रिफाइनरी का निर्णय नहीं बदलती है। 
राष्ट्रीय उपाध्यक्ष को भेजा ज्ञापन : रिफाइनरी बचाओ संघर्ष समिति की ओर से मंगलवार को कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी को रिफाइनरी की मांग का ज्ञापन फैक्स के जरिए भेजा गया। 
ज्ञापन में बताया कि सरकार ने रिफाइनरी को लगाने की घोषणा तो लीलाला में की गई, लेकिन उसका स्थान अचानक बदलकर पचपदरा कर दिया गया। जिससे जनता में जबरदस्त रोष है। उन्होंने बाड़मेर में गुड़ामालानी, चौहटन, बाड़मेर और शिव विधानसभा का हवाला देते हुए बताया कि हर सरकार ने रिफाइनरी के निर्णय को समय रहते नहीं बदला गया तो इन विधानसभाओं में कांग्रेस को करारी हार का सामना करना पड़ेगा। राहुल गांधी से उन्होंने रिफाइनरी को लीलाला में स्थापित किए जाने की मांग की। मंगलवार को धरने पर कुड़ला सरपंच रेखाराम सियोल, मदन नागोड़ा, रमेश मोसलपुरिया, मोहनलाल सोनी, निंबाराम माली, मूलाराम, नेनाराम, रामाराम, मांगीलाल, कानाराम, हीराराम, हिम्मताराम नाई सहित सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे। 

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top