कोमा में सरबजीत,राजनयिक मिले 
लाहौर/नई दिल्ली। 
पाकिस्तान में लाहौर के कोट लखपत जेल में जानलेवा हमले का शिकार हुआ भारतीय कैदी सरबजीत सिंह अभी कोमा में है और डाक्टरों के मुताबिक उसके लिए अगले 24 घंटे नाजुक हैं।

कैदियों ने प्राणघातक हमला किया था -
पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में फांसी की सजा पाने वाले सरबजीत सिंह पर जेल के कुछ कैदियों ने शुक्रवार को प्राणघातक हमला किया था जिसके बाद उसे गंभीर हालत में जिन्ना अस्पताल में भर्ती कराया गया था। भारत द्वारा अफजल गरू और अजमल कसाब को फांसी दिए जाने के बाद से सरबजीत सिंह पर मौत का खतरा मंडराने लगा था। 


भारतीय राजनयिक अस्पताल पहुंचे -
सरबजीत सिंह पर हुए हमले की खबर मिलने के बाद भारतीय उच्चायोग के दो राजनयिक उसका हालचाल लेने अस्पताल पहुंचे। नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकरूद्दीन ने टि्वटर पर शनिवार को लिखा,इस्लामाबाद स्थित भारतीय उच्चायोग को सरबजीत सिंह से देर रात दो बजे मिलने की इजाजत मिल गई। वह जिन्ना अस्पताल के आईसीयू में है। भारतीय अधिकारियों ने डाक्टरों से लगातार संपर्क बना रखा है और वे उसी हालत पर निगरानी रख रहे हैं। 

कोमा में है सरबजीत -
सरबजीत सिंह के डाक्टरों ने भारतीय अधिकारियों को बताया है कि वह अभी कोमा में है और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है। उसका एक्स रे. एमआरआई और सीटी स्कैन टेस्ट कर लिया गया है। अभी और जांच करने से पहले डाक्टर उसकी हालत में थोड़े सुधार का इंतजार कर रहे हैं। सरबजीत सिंह का इलाज करने वाले डाक्टरों के मुताबिक उसके लिए अगले 24 घंटे नाजुक हैं। उसे सिर में गहरी चोट लगी है और उसके चेहरे में बहुत अधिक सूजन भी है। उसका खून बहुत अधिक बह गया है इसीलिए फिलहाल उसकी सर्जरी नहीं की जा सकती है।

सुरक्षा बढ़ाई -
सूत्रों के मुताबिक अस्पताल में सरबजीत के भर्ती होने के बाद सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पाकिस्तान में छपी खबर के मताबिक सरबजीत सिंह पर हमला करने के आरोप में दो लोगों आमिर और मुद्दसिर की पहचान की गई है। इन दोनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। कोट लखपत जेल के सहायक अधीक्षक और जेल वार्डन को इस घटना के कारण निलंबित कर दिया गया है। पाकिस्तान में स्थित पंजाब के गृह विभाग ने हमले की जांच के आदेश दिए हैं। उच्च सुरक्षा वाले कोट लखपत जेल में सरबजीत को पृथक बैरक में रखा गया था। सूत्राें के मुताबिक दोपहर भोजन के दौरान उसकी कुछ अन्य कैदियों से कहासुनी हो गई जिसके बाद उस पर हमला किया गया।

सरबजीत के वकील ने जेल अधिकारी को बताया जिम्मेदार - 
सरबजीत के वकील ओबैस शेख ने इस वारदात पर चिंता व्यक्त करते हुए इसके लिए जेल अधिकारी जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि इस हमले के गंभीर नतीजे होंगे। उन्होंने कहा,हम ईश्वर से सरबजीत की जिंदगी की दुआ कर रहे हैं। सरबजीत को जासूसी के आरोप में पाकिस्तान में फांसी की सजासुनाई गई है। सरबजीत और उसके परिवार वालों का कहना है कि पहचान संबंधी भूल के कारण यह मामला बनाया गया है।

खत में जताई थी हमले की आशंका -
भारत ने सरबजीत की रिहाई के लिए कूटनीतिक स्तर पर काफी प्रयास किए हैं। सरबजीत सिंह की बहन दलबीर कौर ने कहा कि उन्हें उनके भाई ने अपने वकील के जरिए खत भिजवाए थे जिसमें उसने बताया था कि उसे धमकी दी जाती है। उसे वहां के लोग कहते थे कि भारत में अफजल को फांसी मिल गई लेकिन तुम अब भी यहां जिंदा हो इसीलिए हम तुम पर हमला करेंगे। उन्होंने कहा,मैंने गृह मंत्री और विदेश मंत्री को इस संबंध मेंजानकारी दी थी। मैं अब अपने भाई से मिलना चाहती हूं। मैं पाकिस्तान जाना चाहती हूं।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top