मेरी नजदीकी वाले को टिकट नहीं, जनाधार वाले व्यक्ति  को टिकट:  वसुंधरा  

जयपुर।
भाजपा की प्रदेश अध्यक्ष वसुंधरा राजे ने साफ कहा है कि कोई ये सोचता हो कि वह मेरे या किसी और नेता के नजदीक है और इस आधार पर उसे टिकट मिल जाएगा तो यह संभव नहीं। सर्वे में मिले फीडबैक और जनाधार वाले व्यक्ति को ही इस बार टिकट दिया जाएगा। आगरा रोड पर हैवन्स गार्डन में हुई कार्यसमिति की बैठक में राजे ने यह बात कही। राजे के प्रदेशाध्यक्ष बनने के बाद यह पहली कार्यसमिति की बैठक थी।
जिसमें राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव पास करने के साथ ही राजे की सुराज संकल्प यात्रा को भी अंतिम रूप दिया गया। राजे ने कहा कि जो उम्मीदवार बनना चाहता है, वो ऊपर नहीं नीचे कार्यकर्ताओं और मतदाताओं की तरफ देखे। बैठक में महावीर प्रसाद जैन ने कहा कि कांग्रेस पागल हाथी की तरह है, जिसे एकजुट हो कर काबू में करना है। 

...हम सुराज लाएंगे
राजे ने चुनाव के लिए नया नारा दिया... हम राज नहीं बदलेंगे, हम सुराज भी लाएंगे। उन्होंने केन्द्र और राज्य को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि सत्ता में बने रहने के लिए कांग्रेस किसी भी हद तक जा सकती है। डीएमके के समर्थन वापसी के बाद स्टालिन के घर पर पड़े छापे इसका उदाहरण हैं। 

पहलवान, चौधरी भी पहुंचे
निर्दलीय विधायक रणवीर पहलवान और जीवाराम चौधरी बैठक में पहुंचे हालांकि भाजपा के सदस्य न होने के कारण एक बार तो उन्हें मुख्य द्वार पर रोक लिया गया। बाद में प्रदेशाध्यक्ष राजे के स्टाफ के कहने पर अन्दर आने दिया गया। 

यह रहे मंच पर 
राष्ट्रीय संगठन मंत्री सौदान सिंह, प्रदेश प्रभारी कप्तान सिंह सोलंकी, पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह , नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया, किरण माहेश्वरी, राष्ट्रीय मंत्री भूपेन्द्र यादव, किरीट सौमेया, अरूण चतुर्वेदी, राजेन्द्र राठौड़।

जिलाध्यक्षों को छोड़ना होगा पद
भाजपा प्रदेश प्रभारी कप्तान सिंह सोलंकी ने जिलाध्यक्षों की बैठक में कहा कि जो चुनाव लड़ना चाहता है, वह पूरा ध्यान विधानसभा क्षेत्र में लगाए। संगठन के काम के लिए नया जिलाध्यक्ष बना दिया जाएगा। इस पर एक जिलाध्यक्ष का कहना था कि यदि पार्टी यह तय कर दे कि किसी जिलाध्यक्ष को टिकट देना तय है तो वह पद छोड़ा देगा। क्या गारंटी है कि टिकट मिल ही जाएगा? सोलंकी ने कहा कि यदि यह स्थिति बनती है कि जिलाध्यक्ष ही सीट निकाल सकता है तो उसे टिकट दिया जाएगा। 

50 से ज्यादा नए सुझाव आए
प्रदेश उपाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी ने मीडिया को बताया कि बैठक में राजनीतिक और आर्थिक प्रस्ताव पास किए गए। गुलाब चंद कटारिया ने राजनीतिक प्रस्ताव रखा, राव राजेन्द्र सिंह ने आर्थिक प्रस्ताव रखा। 50 से ज्यादा नए सुझाव आए। 

सीआईडी वालों को निकाला
कार्यसमिति में दो सीआईडी वाले भी प्रेस गैलेरी में नजर आए। इन्हें भाजपा कार्यकर्ताओं ने बाहर निकाल दिया। 

फिर दिखी नाराजगी, नहीं आए धनश्याम तिवाड़ी
राजे के सबको एकजुट रखने के लाख प्रयासों के बाद भी शनिवार को हुई कार्यसमिति में घनश्याम तिवाड़ी नहीं आए। पूर्व प्रदेशाध्यक्ष ललित किशोर चतुर्वेदी को बार-बार बुलाने के बावजूद वे कार्यकर्ताओं के साथ नीचे ही बैठे रहे। ओम प्रकाश माथुर भी अपनी सीट मंच पर दूसरी लाइन में लगी हुई देख नीचे पदाधिकारियों के पास आकर बैठ गए। रामदास अग्रवाल और देवी सिंह भाटी कुछ देर आकर वापस चले गए। 

चतुर्वेदी के बयान से कृतज्ञ
पत्रिका से फोन पर तिवाड़ी ने बैठक में नहीं आने के कारण के बारे में खुलकर तो कोई जवाब नहीं दिया,लेकिन यह कहते हुए नाराजगी जताई कि वे प्रदेश उपाध्यक्ष अरूण चतुर्वेदी के कृतज्ञ हैं, जो उन्होंने मुझ जैसे अकिंचन को 500 में से एक बताया। चतुर्वेदी ने संवाददाता सम्मेलन में तिवाड़ी के नहीं आने के सवाल पर कहा था कि 500 से ज्यादा कार्यकर्ता अपेक्षित थे। कुछ लोग आए नहीं। 

चार माह चलेगी यात्रा
4 अप्रेल को उदयपुर में चारभुजा जी से शुरू
जुलाई के तीसरे सप्ताह तक होगी समाप्त
212 सभाएं अलग-अलग जगह होंगी यात्रा में
करीब 13000 किलोमीटर दूरी तय होगी 
जयपुर संभाग : 9 जुलाई को खाटूश्याम जी से

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें

 
HAFTE KI BAAT NEWS © 2013-14. All Rights Reserved.
Top